भारतीय बस
एक भारतीय बस का फाइल चित्र।

श्रीगंगानगर। राजस्थान परिवहन विभाग के श्रीगंगानगर जिला कार्यालय में एक नया घोटाला प्रकाश में आया है। परिवहन कर्मचारियों ने एक ही बस को दो रजिस्ट्रेशन नंबर जारी कर दिये और एक आरसी को झुंझुनूं जिले में बेच दिया गया। इस प्रकरण में जिला परिवहन अधिकारी की भूमिका भी उस समय संदिग्ध हो गयी, जब उनके सामने मामला पहुंचा तो उन्होंने अपने दोषी कर्मचारियों के खिलाफ कार्यवाही करने के स्थान पर उनको बचाने का प्रयास आरंभ कर दिया।

देशराज कम्बोज निवासी गांव 61 एफ, तहसील श्रीकरणपुर जिला श्रीगंगानगर ने जानकारी दी कि उसने उत्तरप्रदेश से दो बसों की खरीद की थी। एक को नंबर आरजे 13 पीए-5752 और दूसरी को आरजे 13 पीए-5753 जारी कर दिया।

श्रीगंगानगर के एडीएम सतर्कता ने सरपंच से मिलने से इन्कार कर दिया

उसका आरोप है कि आरजे 13 पीए-5752 का रजिस्टर्ड नंबर उसकी सहमति के बिना ही झुंझुनूं की एक महिला संतोष देवी के नाम ट्रांसफर कर दिया गया।

संतोष देवी को उसी चैसिस नंबर पर यह नंबर आवंटित किया गया। इसके विपरीत उसको अन्य नंबर आरजें 13, पीए-6752 जारी कर दिया गया। कागजों में दोनों की चैसिस नंबर एक ही है।

उन्होंने कहा कि आज भी 5752 और 6752 एक ही चैसिस नंबर 386513ईएसजैड818633 पर चल रहे हैं। आरजे 13, पीए-5752 को झुंझुंनूं की संतोष देवी अपनी अन्य चैसिस नंबर वाली बस पर यह नंबर अंकित कर फर्जी तरीके से चला रही है।

सेना ने कई आतंकवादी तथा ‘बैट’ हमलों को विफल किया : जनरल रावत

वहीं उनका यह भी आरोप था कि मामला उजागर होने के बाद उसकी बस को ही गायब कर दिया गया है। उसका आरोप है कि जिला परिवहन कार्यालय के दो कर्मचारियों ने उसकी बस को गायब करने में भूमिका निभाई।


क्या कहते हैं परिवहन अधिकारी

जिला परिवहन अधिकारी सुमन डेलू का कहना है कि उनके सामने जब यह मामला आया तो उन्होंने तुरंत प्रभाव से इस नंबर को ब्लॉक करवा दिया। एक कमेटी भी बनायी गयी है जो दोषी कर्मचारी की जिम्मेदारी तय करते हुए रिपोर्ट देगी।

दूसरी ओर रीजनल ट्रांसपोर्ट ऑफिसर ज्ञानदेव विश्वकर्मा का कहना है कि उन्हें अभी तक इस प्रकरण में तथ्यात्मक रिपोर्ट नहीं मिली है।


फर्जी भौतिक सत्यापन कर दिया

परिवहन विभाग के एक निरीक्षक ने बस का फर्जी भौतिक सत्यापन कर दिया। उसने बाबू की ओर से रचित फर्जी दस्तावेज के आधार पर बस को उपस्थित मानते हुए कागजों में ही उसका भौतिक सत्यापन कर दिया। वहीं इस चैसिस नंबर वाली बस झुंझुनूं में सड़कों पर दौड़ रही है।


 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here