आरटीआइ्र कार्यकर्ता
बाड़मेर के आरटीआई कार्यकर्ता जगदीश गोलिया। फाइल फोटो।

जयपुर। राजस्थान में पुलिस हिरासत में मौत का सिलसिला थम नहीं रहा है। रविवार को एक और व्यक्ति की मौत हो गयी। मृतक की पहचान बाड़मेर जिले में आरटीआई कार्यकर्ता के रूप में थी। उसकी मौत की खबर के बाद बड़ी संख्या में लोग एकत्र हो गये। थाने के पूरे स्टाफ को लाइन हाजिर कर दिया गया है।

बाड़मेर से जो जानकारी सामने आयी है उसके अनुसार जगदीश गोलिया निवासी बाड़मेर को पचपदरा थाना पुलिस ने लड़ाई-झगड़ा करने की आशंका में गिरफ्तार किया था। उसको रविवार रात पुलिस हवालात में रखा गया और आज उसकी पुलिस हिरासत में मौत हो गयी।

पाकिस्तान / इमरान सोमवार को फिर से चीन जाएंगे

परिवारजनों का आरोप है कि जगदीश गोलिया आरटीआई कार्यकर्ता के रूप में जाना जाता था। वह अक्सर पुलिस विभाग की गुप्त सूचनाओं को आरटीआई में प्राप्त करता था। इस कारण पुलिस अधिकारी परेशान थे और अपने भ्रष्टाचार और अन्य गतिविधियों को छिपाने के लिए ही जगदीश गोलिया को थाने में रखकर बुरी तरह पीटा गया जिससे उसकी मौत हो गयी।

जगदीश गोलिया की खबर मिलते ही पुलिस अधिकारी सक्रिय हो गये। एसडीएम, डीवाईएसपी सुभाषचंद्र व एसपी शरद चौधरी ने अस्पताल व पुलिस थाना पहुंचकर मामले की जानकारी ली। एसपी ने बाद में मीडिया से बातचीत में कहा कि तत्काल प्रभाव से थानाधिकारी सरोज चौधरी सहित पूरे थाने के स्टाफ को लाइन हाजिर कर दिया गया।

वहीं पुलिस हिरासत में मारे गये जगदीश गोलिया की मां वरजू देवी के साथ भारी भीड़ पुलिस थाने के बाहर एकत्र हो गयी। वह थाने के स्टाफ को लाइन हाजिर करने मात्र से खुश नहीं थी। इस कारण तत्काल प्रभाव से थानाधिकारी सहित अन्य लोगों की गिरफ्तारी की मांग की गयी। विवाद गहराता देखकर पुलिस ने तत्काल प्रभाव से वरजू देवी की रिपोर्ट के आधार पर हत्या के आरोप में मुकदमा दर्ज कर लिया किंतु किसी की गिरफ्तारी नहीं की गयी। वहीं मामले की जांच संबंधित थाने के सुपर विजन ऑफिसर, बालोतरा सीओ सुभाषचंद्र को सौंप दी गयी। इसको लेकर भी परिजन संतुष्ट नहीं थे।

2020 राष्ट्रपति चुनाव : ट्रम्प का रिपब्लिकन पार्टी में ही विरोध बड़ा

एसपी शरद चौधरी ने मीडिया को बताया कि 176 सीआरपीसी में मर्ग भी दर्ज की गयी है। उन्होंने बताया कि कल प्रात: न्यायिक अधिकारी की उपस्थिति में पोस्टमार्टम करवाया जायेगा। वहीं विभागीय जांच के लिए एडीशनल एसपी की अध्यक्षता में एक कमेटी का भी गठन किया गया है।

क्या है मामला

एसपी ने पत्रकारों को बताया कि जगदीश गोलिया का एक अन्य पक्ष के साथ झगड़ा था। कल दोनों पक्षों के बीच झगडा होने की सूचना पर पुलिस गयी थी और तीन लोगों जगदीश गोलिया, महेन्द्रसिंह व गोपालसिंह को शांतिभंग के आरोप में 151 सीआरपीसी गिरफ्तार किया गया। आज प्रात: जगदीश गोलिया को तहसीलदार के समक्ष पेश करने से पहले ही उसकी हालत खराब हो गयी तो उसको अस्पताल ले जाया गया, जहां चिकित्सकों ने मृत घोषित कर दिया।

लगातार हो रही पुलिस हिरासत में मौत, सरकार नहीं उठा पाई कदम

पुलिस हिरासत में मौत का सिलसिला लगातार चल रहा है। राजस्थान के चुरू जिले में ही पिछले कुछ माह के दौरान दो की मौत पुलिस हिरासत में मौत हो चुकी है। अजमेर में भी एक व्यक्ति की मौत का मामला सामने आ चुका है और आज बाड़मेर जिले में भी इस तरह की घटना सामने आयी है। सरकार ने लगातार पुलिस हिरासत में मौत की खबरों के बावजूद अभी तक कोई कारगर कदम नहीं उठाया है। चुरू जिले के सरदारशहर सर्किल में मौत के बाद सीओ को निलम्बित किया गया था। इससे भी पुलिस व्यवस्था में सुधार नहीं हुआ है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here