स्कॉट मॉरिसन
ऑस्ट्रेलिया के प्रधानमंत्री स्कॉट मॉरिसन। फाइल फोटो

नई दिल्ली। भारत के साथ घनिष्ठ संबंध बना चुके ऑस्ट्रेलिया ने पाकिस्तान के लिए अपने बाजार खोलने से इन्कार कर दिया है। पाकिस्तान और ऑस्ट्रेलिया के व्यापारिक प्रतिनिधिमंडल स्तर की वार्ता में पाकिस्तान ने अपने उत्पाद के लिए ऑस्ट्रेलिया में कर मुक्त बाजार की मांग की थी, जिसे ठुकरा दिया गया।

 

बुजुर्ग तड़प रहा था, भीड़ तमाशबीन बनी हुई थी

पाकिस्तान की प्रमुख समाचार सेवा डॉन के अनुसार पाकिस्तान चाहता था कि ऑस्ट्रेलिया पाकिस्तान के साथ उसी तरह से कर मुक्त व्यापार समझौता करे, जिस तरह की वार्ता वह भारत के साथ कर रहा है। भारत और ऑस्ट्रेलिया क्षेत्रीय व्यापक आर्थिक भागीदारी (आरसीईपी) के तहत कर मुक्त बाजार उपलब्ध करने के लिए वार्ता कर रहे हैं। इसमें दक्षिण पूर्व एशियाई राष्ट्र संघ (आसियान) ( ब्रुनेई , कंबोडिया , इंडोनेशिया , लाओस , मलेशिया , म्यांमार , फिलीपींस , सिंगापुर , थाईलैंड , वियतनाम ) के देश भी शामिल हैं। इन देशों के साथ चीन, जापान भारत, दक्षिण कोरिया और ऑस्ट्रेलिया-न्यूजीलैण्ड समझौता दस्तख्त करने वाले हैं।

पाकिस्तान के कराची में लक्षित हमलों में 18 लोग मरे

ऑस्ट्रेलिया ने पाकिस्तान के साथ एफटीए पर वार्ता करने से इन्कार कर दिया है। इससे पाकिस्तान को बड़ा झटका लगा है जो अपने आर्थिक सुधारों के नाम पर दुनिया को भ्रमित करने का प्रयास कर रहा है।

हाल ही में ऑस्ट्रेलिया मे हुए चुनाव में प्रधानमंत्री स्कॉट मॉरिस पुन: प्रधानमंत्री बन गये हैं। उनकी भारतीय प्रधानमंत्री के साथ गहरी मित्रता रही है।