आईएएस शिव प्रसाद नकाते
श्रीगंगानगर के जिला कलक्टर शिव प्रसाद नकाते।

श्रीगंगानगर। राजस्थान के जिला कलक्टर श्री शिवप्रसाद एम नकाते ने कहा कि देश में कोरोना महामारी के चलते हुए लाॅकडाउन की स्थिति में जिले में किसी भी प्रकार के धार्मिक, सामाजिक व सार्वजनिक कार्यक्रम आयोजित नही होगें। इस प्रकार के कार्यक्रमों पर पूर्णतः प्रतिबंध रहेगा।

जिला कलक्टर सोमवार को जिले के विभिन्न धार्मिक संगठनों के पदाधिकारियों, विभिन्न धर्मों के जागरूक नागरिकों को विडियों कांफ्रेंसिंग के माध्यम से बात कर रहे थे।

उन्होंने कहा कि आगामी दिनों में आखा तीज, परशुराम जयंती तथा रमजान का अवसर शुरू हो रहा है, ऐसे में किसी भी प्रकार के धार्मिक आयोजन नही होगें और न ही नागरिक इकठ्ठे होंगे। अपने-अपने घरों में रहकर धारा 144 व लाॅकडाउन की अक्षरशः पालना सुनिश्चित की जाये। धार्मिक संगठनों के पदाधिकारी व विभिन्न धर्मों के अग्रणी नागरिक आमजन को भी बताये कि लाॅकडाउन के दौरान कोई धार्मिक आयोजन नही होगें और न ही किसी प्रकार की स्वीकृति दी जायेगी।

लॉकडाउन के दौरान श्रीगंगानगर पुलिस की प्रभावी कार्यवाही, 12 लाख का जुर्माना लगाया

डीएम ने कहा लाॅकडाउन के दौरान सोशल डिस्टेंसिंग आवश्यक है। इसलिये सभी नागरिक अपने घरों में रहें। एक दुसरे के घर न जाना है और न ही दूसरे नागरिक को घर बुलाना है। उन्होंने कहा कि सामाजिक दूरी स्वयं के लिये, परिवार के लिये बहुत जरूरी है।

जिला कलक्टर ने कहा कि समाज में किसी प्रकार की अफवाह न फैलें, इस बात का भी ध्यान रखें। अगर कोई नागरिक अफवाह फैलाने का प्रयास करता है, तो उसके विरूद्ध कार्यवाही की जायेगी। कोई भी नागरिक बिना पास के बाहर नही निकलेंगें।

श्री नकाते ने कहा कि विश्व व्यापी महामारी के खतरनाक संक्रमण से लड़ने के लिये सोशल डिस्टेंसिंग आवश्यक है। देश में लाॅकडाउन करने का उद्देश्य महामारी से आमजन को बचाना है। इसके पीछे देश की जनता को बचाने की गहरी सोच है।

श्रीगंगानगर बीएसएनएल के उपभोक्ताओं को मिली दोहरी खुशी

उन्होंने कहा कि रमजान के अवसर पर किसी प्रकार की दावत इत्यादि व सामूहिक भोज नही होगें। उन्होंने कहा कि एक अपै्रल के पश्चात कोई भी विदेशी, अन्य राज्यों एवं अन्य जिलों से नागरिक आये है, उनकी सूचना संबंधित नियंत्रण कक्ष, एसडीएम, बीसीएमओ के नियंत्राण कक्ष में जरूर दें, जिससे उनमें कोई व्यक्ति बीमार है तो उसकी जांच की जा सकें।

वीसी के माध्यम से जिले के सभी उपखण्ड स्तर, जिला स्तर के धार्मिक संगठनों के पदाधिकारी व जागरूक नागरिकों ने भाग लिया।