श्रीगंगानगर नगर परिषद
नगर परिषद

श्रीगंगानगर। राजस्थान के श्रीगंगानगर जिला मुख्यालय पर मच्छरों के कारण इस समय तीन लाख से ज्यादा जनता परेशान हो रही है। मच्छरों से मलेरिया व डेंगू जैसे रोग दर्जनों लोगों को अपनी चपेट में ले चुके हैं लेकिन स्वास्थ्य विभाग इस कारण शांत बैठा हुआ है कि इस साल डेंगू रोगियों की संख्या पिछले साल की अपेक्षा कम है।

नगर निकाय चुनाव : शराब की दुकान बंद करने के लिए प्रशासन ने क्यों दिया आदेश

मच्छरों के कारण शहर के प्रत्येक इलाके में रात को हजारों मच्छर समूह के रूप में अपना हमला बोलते हैं। दुपहिया वाहन चालकों को सड़कों पर निकलना भी मुश्किल हो गया है। अनेक लोग प्रशासन को ज्ञापन दे चुके हैं।

जिला कलक्टर ने एक बैठक में नगर परिषद तथा स्वास्थ्य विभाग को एंटी लार्वा व फोगिंग करने के आदेश दिये थे किंतु इसके बावजूद शहर में मच्छर को समाप्त करने के लिए कोई भी गंभीर नजर नहीं आ रहा है।

स्वास्थ्य विभाग ने पूरा मामला ही नगर परिषद का बता दिया है और कहा है कि हमारे पास फोगिंग या एंटी लार्वा एक्टीविटीज के लिए कर्मचारी नहीं है।

नगर परिषद चुनाव :  आज अढ़ाई सौ प्रत्याशियों ने जमा करवाये नामांकन पत्र

स्वास्थ्य विभाग के एक अधिकारी का कहना है उनके पास इतने कर्मचारी नहीं है कि सभी 65 वार्ड व आसपास के ग्रामीण क्षेत्र के गांवों की नालियों में जाकर काला तेल और फोगिंग कर सकें। उनका कहना था कि इस कारण यह संसाधन नगर परिषद को सौंप दिये गये हैं।

वहीं आयुक्त का कहना है कि इस मामले में वे एचओ के साथ वार्ता करेंगी और फोगिंग के लिए भी कार्य किया जायेगा। कुछ क्षेत्रों में फोगिंग की भी गयी है किंतु अभी तक कोई फायदा नहीं हुआ है।

उल्लेखनीय है कि शहर में इन दिनों मच्छरों की भरमार के कारण लोगों के लिए जीना दूभर हो गया है। काफी सालों बाद इतनी बड़ी संख्या में मच्छर पनपे हैं जो पूरे शहर को अपनी चपेट में ले चुके हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here