भारत के समाचार
एक दिन में रिकॉर्ड एक लाख से अधिक कोरोनामुक्त

नयी दिल्ली,14 सितंबर  देशभर में पिछले 24 घंटे के दौरान 77,512 कोरोना संक्रमितों के स्वस्थ होने से राष्ट्रीय औसत रिकवरी दर बढ़कर 78 प्रतिशत हो गयी है।
केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय की ओर से सोमवार को जारी आंकड़ों के मुताबिक पिछले 24 घंटे में देशभर में 77,512 कोरोना संक्रमित स्वस्थ हुए हैं जिससे अब तक कोरोना संक्रमण को मात देने वाले व्यक्तियों की संख्या बढ़कर 37,80,107 हो गयी है।
मंत्रालय ने आज बताया कि कोरोना संक्रमण से मुक्त होने वाले कुल व्यक्तियों में से 60 प्रतिशत से अधिक व्यक्ति देश के पांच राज्यों महाराष्ट्र, आंध्रप्रदेश , तमिलनाडु , कर्नाटक और उत्तर प्रदेश के हैं।

सरकारी आंकड़ों के अनुसार, 13 सितंबर को कोरोना संक्रमणमुक्त हुए व्यक्तियों में महाराष्ट्र के 11,549, आंध्र प्रदेश के 10,131, कर्नाटक के 8,402, तमिलनाडु के 5,717, उत्तर प्रदेश के 5,958, ओडिशा के 3,363 ,दिल्ली के 3,453, पश्चिम बंगाल के 3,054, तेलंगाना के 2,479, असम के 2,556, हरियाणा के 2,248 और बिहार के 1,851 व्यक्ति शामिल हैं।

दिल्ली मेट्रो में सोमवार को लगभग ढाई लाख यात्रियों ने किया सफर
सरकारी आंकड़ों के मुताबिक रिकवरी दर के मामले में बिहार सबसे आगे है। बिहार में रिकवरी दर 91 प्रतिशत है। इसके अलावा तमिलनाडु में रिकवरी दर 89 प्रतिशत, पश्चिम बंगाल में 86 प्रतिशत, दिल्ली में 85 प्रतिशत, राजस्थान में 83 प्रतिशत, गुजरात में 83 प्रतिशत और आंध्र प्रदेश में 82 प्रतिशत है।

इनके अलावा, तेलंगाना में रिकवरी दर 80 प्रतिशत, हरियाणा में रिकवरी दर 78 प्रतिशत, ओडिशा में 79 प्रतिशत, उत्तर प्रदेश में 77 प्रतिशत, कर्नाटक में 77 प्रतिशत, मध्य प्रदेश में 75 प्रतिशत, झारखंड में 76 प्रतिशत, केरल में 72 प्रतिशत, पंजाब में 72 प्रतिशत, महाराष्ट्र में 70 प्रतिशत, जम्मू-कश्मीर में 66 प्रतिशत और छत्तीसगढ़ में 50 प्रतिशत है।
पिछले 24 घंटे में कोरोना संक्रमण के 92,071 मामले सामने आने से अब तक संक्रमण के शिकार हुए व्यक्तियों की संख्या बढ़कर 48,46,427 हो गयी है हालांकि, 13 सितंबर को 77,512 संक्रमितों के रोग मुक्त होने और 1,136 मरीजों की माैत से संक्रमण के सक्रिय मामलों में 13,423 की तेजी आयी है। देश भर में इस समय कोरोना संक्रमण के 9,86,598 सक्रिय मामले हैं।
मंत्रालय के मुताबिक संक्रमण के कुल सक्रिय मामलों में से 61 प्रतिशत मामले महाराष्ट्र ,आंध्रप्रदेश, कर्नाटक, उत्तर प्रदेश और तमिलनाडु के हैं।