श्रीगंगानगर के समाचार
पदमपुर में सड़क हादसे के बाद एक दृश्य।

श्रीगंगानगर। राजस्थान के श्रीगंगानगर में हिट एण्ड रन केस में घायल व्यक्ति इलाज के अभाव में दम तोड़ गया। वहां मौजूद लोगों में किसी ने भी उसको अस्पताल में भर्ती नहीं करवाया। आक्रोशित मजदूरों ने इस घटना के विरोध में पोस्टमार्टम के बाद पुलिस से शव लेने से इन्कार कर दिया। विवाद के बाद पुलिस ने वाहन चालक को भी तलाश निकाला।

मिली जानकारी के अनुसार पदमपुर सिटी में बलदेव ऋषि नामक एक श्रमिक हादसे का शिकार हो गया। एक ईनोवा कार ने उसको बुरी तरह से कुचल दिया। वह सड़क पर ही गिरकर तड़फ रहा था। आसपास लोग इकट्‌ठा भी हो गये। किसी ने उसको अस्पताल में भर्ती नहीं करवाया।

जब तक पुलिस वहां पहुंचती, तब तक उसकी मौत हो चुकी थी। रात को शव मोर्चरी में रखवा दिया गया। बुधवार सुबह हादसे की जानकारी मिलने पर सभी श्रमिक इकट्‌ठा हो गये और बिहार प्रदेश के इस श्रमिक के टक्कर मारने वाले वाहन चालक की गिरफ्तारी की मांग करने लगे।

विवाद को गहराता देखकर वहां कुछ प्रभावशाली लोग भी पहुंच गये। इसके बाद पोस्टमार्टम की कार्यवाही हुई और पोस्टमार्टम करवाया गया।

कोरोनावायरस अपडेट : बालक ने माता-पिता से पहले जीती कोविड से जंग

यह भी जानकारी सामने आयी है कि प्रवासी श्रमिक की मौत के उपरांत उसके परिवार को कार चालक की ओर से सवा लाख रुपये का मुआवजा दिया गया है।

वहीं पुलिस ने बताया कि हिट एण्ड रन केस में आरोपी कार चालक के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया है।

इस घटना के बाद यह भी पता लगती है कि निर्धन लोगों के जीवन की अहमियत आम लोगों की नजर में क्या है और कोई भी तड़पते हुए व्यक्ति को अस्पताल में भर्ती नहीं करवाता।