ताजा समाचार
विमान हादसे का एक पुराना चित्र।

कराची। शुक्रवार को विमान हादसे के बाद पाकिस्तान इंटरनेशनल एयरलाइंस (PIA) के मुख्य कार्यकारी अधिकारी ने कहा कि विमान में तकनीकी खराबी नहीं थी और पायलट भी प्रशिक्षित थे। क्रू मेम्बर्स को भी आपातकाल परिस्थितयों को प्रशिक्षण दिया गया था। हादसे के कारण क्या रहे, इसकी जांच की जायेगी। वहीं सिंध सरकार ने 66 लोगों के मारे जाने की पुष्टि की है।

पाकिस्तान की संवाद सेवा द डॉन ने अपनी रिपोर्ट में बताया है कि कराची के जिन्ना एयरपोर्ट पर विमान रनवे पर उतरते समय हादसे का शिकार हो गया था और आबादी क्षेत्र में जा गिरा था।

इस संबंध में पत्रकारों से बात करते हुए पीआईए के सीइओ अरशद मलिक का कहना है कि विमान पीके-8303 में कोई भी तकनीकी खराबी नहीं थी। विमान को उड़ान भरने से पहले उसकी जांच की जाती है। वहीं उन्होंने विमान में सवार क्रू मेम्बर्स के बारे में भी कहा कि वे आपात परिस्थितियों के लिए पूरी तरह प्रशिक्षित थे।

पाकिस्तान : कराची में विमान हादसा, आपातकाल में उतरते समय आबादी क्षेत्र में गिरा

उन्होंने कहा, “मेरे पायलट योग्य थे, उनकी जाँच और संतुलन, और चिकित्सा परीक्षण पूर्ण थे। मेरे केबिन क्रू भी योग्य थे और मेरे विमान का निरीक्षण भी पूरा हो गया था।”

रेडियो पाकिस्तान के अनुसार , मलिक ने यह भी कहा कि विमान “तकनीकी रूप से उड़ान भरने के लिए उपयुक्त था”, यह कहते हुए कि सभी तकनीकी आवश्यकताओं को पूरा करने के बाद एक विमान को उड़ान भरने के लिए मंजूरी दी जाती है।

सिंध के स्वास्थ्य अधिकारियों ने बताया कि अब तक 66 लोगों के मारे जाने की पुष्टि हो चुकी है। हालांकि, यह स्पष्ट नहीं है कि मृतक सभी उड़ान में सवार थे या क्षेत्र के निवासी थे, जहां दुर्घटना हुई थी।