राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प
अमेरिका के राष्ट्रपति श्री डोनाल्ड ट्रम्प चुनावी रैली को संबोधित करते।

ट्रम्प का दावा : बिडेन ने जांच करवाने से किया इन्कार

वाशिंगटन। अमेरिका के प्रमुख समाचार चैनल, फॉक्स न्यूज पर आज मंगलवार को पहली प्रेसिंडेंशियल डिबेट का आयोजन किया जा रहा है। इस डिबेट से पहले ही राष्ट्रपति ने डेमोक्रेटिक उम्मीदवार की मानसिक हालत पर सवाल खड़े कर दिये हैं। उन्होंने आरोप लगाया कि जोई बिडेन ड्रग्स लेने के आदी हैं। उन्होंने इसकी जांच की मांग की किंतु जोई बिडेन ने यह बयान देकर इस विवाद को और हवा दे दी कि वे अपनी जांच नहीं करवायेंगे।

अमेरिका में 3 नवबर को होने वाले मतदान से पहले राष्ट्रपति श्री ट्रम्प ने एक बार फिर से डेमोक्रेटिक पार्टी के नेता जोई बिडेन के स्वास्थ्य पर सवाल खड़े किये हैं। उनका कहना है कि बिडेन ड्रग्स लेते हैं और वे (श्री ट्रम्प) पूरजोर मांग करते हैं कि डिबेट से पहले या बाद में जोई बिडेन ड्रग्स की जांच करवायें। श्री ट्रम्प ने इस बात पर भी जोर दिया कि वे भी इस टेस्ट को करवाने को तैयार हैं।

राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प के इन आरोपों पर जोई बिडेन से पूरी तरह से सफाई बाहर नहीं निकल पायी है। हालांकि कुछ दिन पहले भी आयोवा में श्री ट्रम्प ने कहा था कि दिमागी तौर पर बाइडेन राष्ट्रपति बनने लायक नहीं हैं।

उल्लेखनीय है कि अनेक बार जोई बिडेन चुनाव प्रचार से भी अवकाश ले लेते हैं। उस समय श्री ट्रम्प उनको स्लीपी जोई बिडेन के नाम से पुकारते हैं और श्री बिडेन के पास कोई जवाब नहीं होता है। चुनाव प्रचार में काफी पिछड़ चुके जोई बिडेन पर राष्ट्रपति का नया बयान निश्चित रूप श्री बिडेन की चुनावी हालत को खराब करेगा बल्कि समाज के एक बहुत बड़े वर्ग को मतदान करने से पहले सोचने पर विवश कर देगा।

सोमवार को अपने बयानों में श्री ट्रम्प ने साफ शब्दों में कहा कि वे मांग करते हैं कि डिबेट से पहले जोई बिडेन अपनी जांच करवाएं। वे ड्रग्स लेने के आदी हैं।

वहीं यह भी जानकारी सामने आ रही है कि डेमोक्रेटिक पार्टी के एक राज्यपाल कोरोना वायरस से पीड़ित पाये गये हैं और बिडेन वहां पर प्रचार करने के लिए गये थे और उनके सम्पर्क में भी आये थे। ट्रम्प की प्रचार टीम की ओर से यह जानकारी दी गयी है।

श्री ट्रम्प ने अपने बयान को ट्वीट करके भी दुनिया तक पहुंचाया है। इस तरह से यह नहीं कहा जा सकता कि यह सिर्फ चुनाव प्रचार का एकमात्र समाचार है। अगर निश्चित रूप से कुछ सच्चाई है तो यह अमेरिका की जनता के लिए बहुत बड़ा खतरा हो सकता है। राष्ट्रपति पद के दावेदार पर अगर ड्रग्स लेने के आरोप लगते हैं और वे अपनी जांच करवाने से भी इनकार कर देते हैं तो इससे संयुक्त राज्य में नशा का कारोबार करने वालों के पैर मजबूत हो जायेंगे।

कानून व्यवस्था के लिए भी यह एक बड़ा खतरा होगा। ड्रग्स लेने के आरोप कम गंभीर नहीं हैं। ट्रम्प के इस दावे के बाद चुनाव प्रचार की पूरी तस्वीर ही बदल गयी है। बाइडेन को स्वयं आगे आकर अपनी जांच करवाकर देशवासियों को आश्वस्त करना चाहिये था किंतु उन्होंने इससे साफ इंकार कर दिया।

ध्यान रहे कि अब तक अमेरिकी चुनावों ने वो हिंसा देखी है वो कभी इतिहास में नहीं हुई। रिपब्लिकन पार्टी के नेताओं का मानना है कि जिस तरह से जोई बिडेन हिंसक आंदोलनकारी लोगों के प्रदर्शन का नेतृत्व करते दिखते थे, वह असामान्य था। इतना ही नहीं वामपंथी संगठन को उन्होंने बड़ी-बड़ी कंपनियों से दान दिलाने में भी मदद की। डेमोक्रेटिक पार्टी में ही इस बात को लेकर विवाद गहराता जा रहा है। अनेक नेताओं का मानना है कि इसका नुकसान चुनावों में पार्टी को हो सकता है। वहीं कुछ सांसदों को दरकिनार कर दिये जाने के भी समाचार आ रहे हैं। इससे जोई बिडेन की पतली हालत भी उजागर होती है।