हनुमानगढ़ के समाचार
हनुमानगढ़ जेल परिसर का दृश्य। फाइल चित्र

श्रीगंगानगर। राजस्थान के हनुमानगढ़ जिले में शनिवार-रविवार की मध्य रात को जेल ब्रेक का प्रयास कर रहे चार कैदियों में से एक की मौत हो गयी। वह जेल की चारदीवारी में प्रवाहित हो रही विद्युत तारों की चपेट में आकर जमीन पर गिर गया। हनुमानगढ़ का जेल प्रशासन एक बार फिर सवालों के घेरे में आ गया है। अभी कुछ ही दिन पहले जेल में कई दिन तक कैदियों ने भूख हड़ताल भी रखी थी।

उपलब्ध करवायी गयी जानकारी के अनुसार हनुमानगढ़ जेल में महावीर नामक कैदी की मौत हो गयी। उसकी करंट लगने से मौत होना बताया गया है। इस संबंध में जेल के उप अधीक्षक सुरजीत सिंह ने पुलिस को दी रिपोर्ट में बताया है कि महावीर पुत्र बहादरराम बावरी निवासी ढाबां, संगरिया पिछले अढ़ाई साल से जेल में था। उस पर अपने चाचा की हत्या का आरोप है।

सादुलशहर में व्यापारियों में विवाद, व्यापार मंडल भवन में ही भिड़े

महावीर ने बीती रात जेल ब्रेक करने का प्रयास करते हुए ऊंची दीवार पर चढ़ गया किंतु वहां विद्युत लाइन का करंट प्रवाहित हो रहा था, जिसकी चपेट में आने से उसकी मौत हो गयी। वह दीवार से नीचे गिर गया, जिससे उसकी मौत हो गयी। मामले की जानकारी पाकर न्यायिक अधिकारियों ने भी रात को जेल प्रशासन का विजिट किया।

वहीं महावीर के तीन अन्य साथियों हरभजन, कुलदीप व निक्का पर मुकदमा दर्ज करवाया है। रिपोर्ट में आरोप लगाया है कि चारों ने जेल ब्रेक की कोशिश की।

राजगढ़ थानाधिकारी ने क्यों लगा ली फांसी, नौकरी भी छोड़ना चाहते थे?

सूर्यास्त से पहले कैदियों को बैरिक में डाल दिये जाने का प्रावधान जेल अधिनियम में है, फिर यह तालाबंद बैरिक से कैसे बाहर निकले। दीवार तक पहुंच गये, क्या कोई पहरा नहीं था?

ध्यान देने योग्य बात यह भी है कि जेल प्रशासन पिछले काफी समय से विवादों में है। जेल कैदियों पर मारपीट के आरोप भी लगे थे। कुछ कैदियों को अस्पताल तक इलाज के लिए भी लाया गया था। वहीं कैदियों ने हड़ताल भी रखी थी।