श्रीगंगानगर जिला
श्रीगंगानगर के जिला कलक्टर एक बैठक की अध्यक्षता करते हुए। फाइल फोटो

श्रीगंगानगर। जिला कलक्टर शिवप्रसाद एम नकाते ने कहा कि राज्य सरकार के निर्देशानुसार समर्थन मूल्य पर 25 अप्रेल से गेहूं खरीद प्रस्तावित है, जिसकी तैयारियां समय रहते की जाये। उन्होंने कहा कि मोटे तौर पर वर्तमान खरीद प्रणाली उपयोगी रहेगी। श्रीगंगानगर मंडी में फसल खरीद के लिये गंगानगर माॅडल तैयार किया गया था, जिसकी सराहना राज्य स्तर पर भी हुई है।

जिला कलक्टर सोमवार को कलेक्ट्रेट सभाहाॅल में समर्थन मूल्य पर गेहूं, चना, सरसों खरीद को लेकर आयोजित बैठक में आवश्यक निर्देश दे रहे थे। उन्होंने कहा कि किसान को अपनी फसल बेचने के लिये गिरदावरी पर्ची की आवश्यकता रहेगी, इसके लिये पटवारी समय रहते गिरदावरी पर्चियां तैयार कर लेवें तथा संबंधित क्षेत्रा के गांवों के नाम वर्ण के अनुसार वितरण की व्यवस्था कर लें। जिले में गेहूं खरीद के लिये जहां मण्डियां है, वहां आड़तियों के माध्यम से किसानों को पर्ची दी जायेगी। इस प्रकार के 19 खरीद केन्द्र है। जिले में गेहूं खरीद के लिये 15 फोकल प्वाईंट है, जहां एफसीआई सीधे ही गेहूं खरीद करेगी। ऐसे केन्द्रों पर दूरभाष से संपर्क कर 10 ट्राली अनाज से ज्यादा नही मंगवाया जायेगा।

श्रीगंगानगर जिला में धार्मिक-सामाजिक तथा सार्वजनिक कार्यक्रम पर रोक

जिला कलक्टर ने कहा कि खरीद की गई फसल का उठाव नियमित रूप से करना होगा। अगर उठाव नही होता है, तो आगामी दिवस निलामी को होल्ड रखते हुए पहले उठाव करवाया जायेगा। उठाव से संबंधित व्यवस्था को मंडी सचिव देखेंगे। जिला कलक्टर ने कहा कि व्यापारी गिरदावर की पर्ची को देखते हुए ट्रालियां मंगवाये तथा इस बात का भी ध्यान रखें कि उठाव की क्षमता से ज्यादा ट्रालियां मंडी में न मंगवाये। खरीद केन्द्रों पर क्रय की गई जिन्स की तुलाई, भराई, सिलाई के लिये पर्याप्त व्यवस्था रखनी होगी। एफसीआई के अधिकारी इस व्यवस्था के लिये वैकल्पिक व्यवस्था भी रखेगें।

मीडिल क्लास फैमिली के सहयोग की पीएम मोदी ने की सराहना

खरीद केन्द्रों पर फसल खरीद की व्यवस्था सुचारू चलें, इसके लिये गिरदावर, कृषि पर्यवेक्षक तथा क्यूआई की टीम बनेगी, जो विभिन्न प्रकार की व्यवस्थाओं को बनाये रखने में सहयोग करेगें। उन्होंने कहा कि व्यापारी किसान की फसल का क्रय समर्थन मूल्य से नीचे नही करें। गुणवत्ता की दृष्टि से भारतीय खाद्य निगम के नियमों का अनुसरण किया जा सकता है। समर्थन मूल्य से नीचे फसल खरीदने पर लाईसेंस निलम्बन संबंधी कार्यवाही की जा सकती है।

चना, सरसों की खरीद 1 मई से प्रस्तावित

जिला कलक्टर श्री नकाते ने कहा कि राज्य सरकार द्वारा चना व सरसों की खरीद 1 मई 2020 से प्रस्तावित है तथा प्रत्येक किसान की 40 क्विंटल फसल क्रय की जायेगी। जिले में विभिन्न 32 खरीद केन्द्र बनाये गये है। जिला कलक्टर ने कहा कि चना, सरसों खरीद में किसान को परेशानी न हो, इसके लिये प्रतिदिन एक खरीद केन्द्र पर 10 ट्राली जिन्स मंगवाई जायेगी। उठाव नियमित रूप से होने के पश्चात ट्रालियों की संख्या में बढ़ोतरी की जायेगी।

उन्होंने कहा कि चना, सरसों खरीद के लिये 30 प्रतिशत ही पंजीयन हुआ है, जिससे किसानों को फसल बेचने को लेकर चिन्तित होने की आवश्यकता नही है। उन्होंने कहा कि कोविड-19 के दौरान सोशल डिस्टेंसिंग की पालना करते हुए फसल खरीद की जायेगी। उन्होंने बताया कि पूर्व में जिन किसानों ने पंजीयन करवा रखा है, उनकी फसल क्रय होगी तथा अन्य किसानों के लिये राज्य सरकार स्तर से प्राप्त निर्देशों के अनुरूप फसल खरीद होगी।

बैठक में राजस्व अपील अधिकारी श्री करतार सिंह पूनिया, जिला रसद अधिकारी श्री राकेश सोनी, उपपंजीयक श्री गोरीशंकर, प्रबंध निदेशक श्री भूपेन्द्र सिंह, संयुक्त निदेशक मंडी श्री डी.एल.कालवा, भारतीय खाद्य निगम के अधिकारी, तिलम संघ व राजफैड के अधिकारी उपस्थित थे।