राजस्थान के समाचार
विधायक बलवीरसिंह लूथरा।

श्रीगंगानगर। राजस्थान के श्रीगंगानगर जिले से भाजपा विधायक बलवीरसिंह लूथरा का जिस तरह से कांग्रेस के प्रति मोह दिखाई देता है, उससे राजस्थान में पार्टी के बड़े नेता भी हैरान हैं। कांग्रेस के प्रति अपने मोह को वे सार्वजनिक रूप से प्रदर्शित कर रहे हैं।

कुछ दिन पूर्व मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कोविड-19 के खिलाफ चल रही लड़ाई को मजबूत करने के लिए सभी राजनीतिक दलों के साथ मंत्रणा करने का निर्णय लिया और विधायकों के साथ वर्चुअल कॉन्फ्रेंस के माध्यम से रूबरू हुए।

रायसिंहनगर विधानसभा क्षेत्र से भाजपा विधायक बलवीरसिंह लूथरा भी अन्य विधायकों की तरह इस बैठक में शिरकत कर रहे थे। सूरतगढ़ से भाजपा विधायक रामप्रताप कासनिया, अनूपगढ़ विधायक संतोष बावरी अपने गृह नगर क्षेत्र के ही वीसी हॉल से सीएम से वार्ता कर रही थीं। यहां तक कि मात्र 30 किमी दूर सादुलशहर के विधायक जगदीश जांगिड़ भी श्रीगंगानगर नहीं आये थे।

बलवीर लूथरा के विधानसभा क्षेत्र में दो एसडीएम मुख्यालय रायसिंहनगर और बिजयनगर हैं। एसडीएम मुख्यालय में वीसी हॉल बना हुआ है। इसके बावजूद विधायक 100 किमी से भी ज्यादा दूर श्रीगंगानगर पहुंचे।

श्रीगंगानगर पहुंचकर उन्होंने कांग्रेस नेताओं का जो गुणगान किया, उसको देखकर हर कोई हैरान हैं। लूथरा गुणगान करते हुए विपक्ष की भूमिका को भूल गये और वे स्वयं को सत्तापक्ष का एमएलए समझते हुए प्रतीत हुए।

ऐसा नहीं है कि सत्ता पक्ष और विपक्ष के बीच मधुर संबंध नहीं होने चाहिये किंतु जब मंच सार्वजनिक हो तो वहां विपक्षी दल को भूमिका भी निभानी चाहिये। लोकसभा, राज्यसभा हो या अन्य सार्वजनिक मंच भाजपा-कांग्रेस के नेता अपनी-अपनी पार्टी की आवाज बनते हुए नजर आते रहे हैं। टीवी मीडिया में डिबेट के दौरान भी सभी राजनीतिक दल के कार्यकर्ता एक-दूसरे की कमियां दुनिया तक पहुंचाते हैं।