शिवप्रसाद नकाते
कलक्टर के जिला कलक्टर शिवप्रसाद नकाते।

श्रीगंगानगर। राजस्थान के श्रीगंगानगर जिले में सोमवार से लॉकडाउन कर दिया गया है। प्रदेश में तालाबंदी की घोषणा की गयी थी, जिसके उपरांत श्रीगंगानगर में भी प्रतिबंधात्मक आदेश को और कड़ा कर दिया गया है।

इस संबंध में पत्रकारों को जानकारी देते हुए जिला कलक्टर और एसपी बताया कि धारा 144 में प्रतिबंधात्मक आदेशों को और मजबूत कर दिया गया है। नये आदेश के तहत पांच या इससे अधिक व्यक्तियों को एक स्थान पर एकत्रित नहीं होने दिया जायेगा। राजस्थान में लॉकडाउन के आदेश जारी हो गये हैं। प्रदेश में कोरोना वायरस से पीड़ित लोगों की संख्या में लगातार बढ़ोतरी होने के कारण सरकार ने यह कदम उठाया है। जिला कलक्टर ने बताया कि लॉक डाउन के उपरांत भी जिले में सब्जी, फल, आटा, दूध, दाल आदि की उपलब्धता बनी रहे, इसके लिए इन परचून, धानमंडी और सब्जी-फल मंडी को लॉकडाउन से बाहर रखा गया है। दूध की सप्लाई पूर्व की भांति बनी रहेगी। सरकारी व गैर सरकारी अस्पताल पहले की तरह खुले रहेंगे। पुलिस थाने और एसडीएम व कलक्टर कार्यालय पहले की तरह काम करते रहेंगे।

India News Update : भारत में सिविल करफ्यू सफल रहा, लोग घरों में ही रहे

उन्होंने बताया कि नैशनल हाइवे पर दोपहिया और चौपहिया वाहन नहीं चल पायेंगे। फल-सब्जी और खाद्य सामग्री वाले कमर्शियल वाहनों को ही परिवहन की अनुमति होगी। अगर कोई भी कालाबाजारी करता है तो पुलिस अथवा प्रशासन के कंट्रोल रूम पर सूचना दे सकता है जिसके बाद संबंधित दुकानदार के खिलाफ आवश्यक वस्तु अधिनियम के तहत कार्यवाही की जायेगी, जिसमें सात साल की सजा का प्रावधान है।

पुलिस अधीक्षक हेमंत शर्मा ने बताया कि सरकार के लॉकडाउन के आदेशों के उपरांत शहर अथवा हाइवे पर अब चौपहिया वाहन नहीं चल पायेंगे। पब्लिक ट्रांसपोर्ट पर पूर्णत: प्रतिबंधात्मक आदेश जारी हो गये हैं। अगर किसी भी व्यक्ति को आवश्यक कार्य से बाहर जाना है तो संबंधित पुलिस थाना के एसएचओ अथवा एसडीएम से अनुमति लेनी आवश्यक होगी।

Coronavirus Update Live : अमेरिका में एक ही दिन में सौ लोगों की मौत

जिला कलक्टर ने यह भी बताया कि अब गरीब और दिहाड़ी मजदूरों को राशन उपलब्ध करवाने के लिए नयी व्यवस्था की गयी है। इन लोगों को रोजगार उपलब्ध नहीं होगा, इस कारण सरकार ने ऐसे लोगों को चिन्हित कर दो माह का राशन फ्री देने का निर्णय लिया है। शहर के समाजसेवी संगठनों का भी सहयोग लिया जायेगा ताकि ऐसे लोगों को किसी भी प्रकार की परेशानी नहीं हो। उन्होंने बताया कि निजी अस्पतालों का भी सहयोग लिया जा रहा है और प्राइवेट अस्पताल के स्टाफ को ट्रेनिंग देने के लिए भी कल से कार्य आरंभ कर दिया जायेगा। सेना के अधिकारियों से भी सम्पर्क किया जा रहा है। सेना से भी सहयोग लिया जायेगा।