सुरेन्द्रसिंह राठोड़
राजस्थान पुलिस के उप अधीक्षक के पद पर कार्यरत सुरेन्द्र सिंह राठौड़ पदमपुर क्षेत्र में गांववासियों से वार्ता करते हुए।

सतीश बेरी

श्रीगंगानगर। राजस्थान में श्रीकरणपुर के डीवाईएसपी सुरेन्द्रसिंह राठौड़ का एक वीडियो वायरल हुआ। इस वीडियो में वे पुलिस कर्मचारियों और अधिकारियों को कुछ आदेश दे रहे हैं और यह वीडियो इतना वायरल हुआ है कि लगभग देश के हर क्षेत्र में पहुंच गया है।

कोरोना वायरस की रोकथाम के लिए केन्द्र सरकार ने लॉकडाउन किया हुआ है। पूरे देश में तालाबंदी है। इस कारण लोगों को हिदायत है कि वे अपने घरों पर ही रहें। बाहर निकलकर वे कोरोना वायरस की चपेट में आकर अपना जीवन गंवा सकते हैं।

कोरोना वायरस लाइव : विश्व में घरेलू हिंसा के मामलों में बढ़ोतरी की आशंका

कुछ स्थानों से वीडियो मिलते हैं, जहां पुलिस बाहर निकलने वालों से “समझाइश” अपनी लाठी से करते हैं। वहीं करणपुर क्षेत्र के डीवाईएसपी ने अपने सर्किल के सभी थानाधिकारियों और कार्यरत कर्मचारियों को आदेशित किया कि जो आवश्यक कार्य से निकला है, उसकी मदद करना भी हमारा काम है। उन्होंने कहा कि अस्पताल (निजी/सरकारी) का कर्मचारी/रोगी डॉक्टर की पर्ची लेकर निकलता है तो उसको रोका नहीं जाए। अनावश्यक परेशान नहीं किया जाये। आवश्यक सेवाओं में शामिल लोगों की मदद करना भी हमारी ड्यूटी में शामिल है।

डीवाईएसपी ने यह भी कहा कि जो बाजार भ्रमण के लिए निकलते हैं, उनके साथ भी लाठी से बात नहीं की जाये। ऐसे लोगों को अपने पास रोककर उसके माता-पिता को खबर दी जाये और ऐसे लोगों को घरों में ही रखने की हिदायत दी जाये।

विश्वास की जो कड़ी की आवश्यकता इस समय जनता महसूस कर रही थी, उन्हीं बातों को श्री राठौड़ ने पुलिस कर्मियों को समझाया।

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कहा, लोग फ्री समय में अपने अंदर भी झांकें!

श्री राठौड़ और श्रीगंगानगर का नाता बरसों पुराना रहा है। वे जहां भी नियुक्त रहे हैं, उन्होंने पुलिस की बेहतर छवि बनाने की कोशिश की है। जवाहरनगर, कोतवाली, सदर पुलिस थाना में नियुक्त रहे हैं। उनके पिता और दादा श्री भी पुलिस विभाग में रह चुके हैं। अंग्रेजों के समय उनके दादा एसपी के पद पर नियुक्त रहे थे। इससे पता चलता है कि बेहतर पुलिसिंग उनके रक्त में हैं। जनता की पीड़ा को समझने और उसको दूर करने की शक्ति उनको विरासत में ही मिली है।

श्री राठौड़ ने डीवाईएसपी होने के उपरांत भी गांवों-ढाणियों में पहुंचकर लोगों से कोरोना वायरस से बचाव और सतर्कता के लिए जो प्रयास किये हैं, ऐसे अधिकारी को सैल्यूट तो जनता की ओर से बनता ही है।

कोरोना वायरस के बाद भी क्या चीन सुपर पावर है?

रविवार को राजकीय अवकाश के दौरान भी वे हमेशा की तरह ड्यूटी में थे और उन्होंने घमूड़्वाली थाना क्षेत्र में पहुंचकर वहां गांववासियों से मुलाकात की और सरकार की ओर से जनता के हित में किये जा रहे लॉकडाउन के प्रति जागरुक किया। उन्हें अपने घरों में रहने की सलाह दी।

आरपीएस राठौड़
पदमपुर थाना क्षेत्र के गांव सांतवसर में कोरोना वायरस से बचाव के लिए ग्रामीणों से समझाइश करते
आरपीएस सुरेन्द्रसिंह राठौड़।

उन्होंने सांवतसर गांव में पहुंचकर भी ग्रामीणों से लम्बी वार्ता की। इस गांव में लोग स्वयं ही पूरे गांव की नाकाबंदी कर चुके हैं। श्री राठौड़ ने कहा कि पुलिस उनकी मदद के लिए हर संभव तैयार है। कभी भी आवश्यकता हो तो सम्पर्क किया जा सकता है। उन्होंने इस बात पर प्रसन्नता जतायी कि गांव के लोग जागरुक हैं और स्वयं ही घरों में बैठे हैं। इससे वे देश की भी मदद कर रहे हैं जब वैश्विक महामारी ने पूरे विश्व को प्रभावित किया हुआ है।

नोवेल कोरोनावायरस Live: लड़ाई के लिए रणनीति नहीं बना पा रहे राष्ट्राध्यक्ष

राजस्थान पुलिस के डीवाईएसपी राठौड़ का यह प्रयास प्रशंसनीय है। गांव और ढाणियों में पहुंचकर वहां भी लॉकडाउन का निरीक्षण किया जाना और लोगों को जागरुक करना, उनकी मेहनत और समाज के प्रति उनके सर्म्पण को भी प्रदर्शित करता है।