राज दर राज खुलेंगे इलाहाबाद बैंक रॉबरी में

श्रीगंगानगर। पुरानी आबादी स्थित इलाहाबाद बैंक की शाखा से कर्मचारियों को बंधक बनाकर की गयी रॉबरी के मामले में पुलिस को साक्ष्य मिले हैं, जिसके आधार पर कुछ लोगों को पूछताछ के लिए हिरासत में लिया गया है।

पुलिस अधीक्षक हेमंत शर्मा से प्राप्त जानकारी के अनुसार पुरानी आबादी में इलाहाबाद बैंक में हुई लूट के मामले में अहम सुराग हाथ लगे हैं, जिसके आधार पर जांच की जा रही है। उन्होंने बताया कि युवक वारदात को अंजाम देने के बाद एक अन्य स्थान पर भी सीसी कैमरे में कैद हुआ है।  श्री शर्मा ने बताया कि इस मामले में कुछ लोगों से पूछताछ की जा रही है, किंतु इनको संदिग्ध नहीं कहा जा सकता। इनसे पूछताछ की जा रही है। जिस असामाजिक तत्व पर संदेह हो रहा है, उससे पूछताछ की जा रही है।


थानाधिकारी रणजीतसिंह सेवदा ने कहा कि कुछ थ्यौरी पर काम चल रहा है। सीसी कैमरों से मिले डेटा के आधार पर जांच को आगे बढ़ाया जा रहा है।

उल्लेखनीय है कि तीन दिन पहले पुरानी आबादी में ट्रक यूनियन पुलिया के निकट स्थित इलाहाबाद बैंक में एक युवक हाथ में गन लेकर आया और उसने सभी कर्मचारियों को बंधक बनाकर 4 लाख 55 हजार की लूट की वारदात को अंजाम दिया। अभी तक बैंक रॉबरी की वारदात को अंजाम देने वाले युवक दो या इससे अधिक संख्या में आते रहे हैं किंतु यह पहली वारदात सामने आयी, जिसमें अकेले एक युवक ने दुस्साहस को अंजाम दिया। उसने वारदात को अंजाम देने में सिर्फ सात मिनिट्स लगाये। वह इसके उपरांत स्कूटी पर ही बैठकर निकल गया। उसके पास चौपहिया वाहन नहीं होना, भी इस बात की ओर इशारा कर रहा है कि लूट की वारदात को अंजाम देने के लिए उसने कई दिन रैकी की। हर पहलू को ध्यान में रखा और इसके बाद वारदात को अंजाम दिया। ध्यान देने योग्य बात यह भी है कि बैंक में कैश का लेन-देन चार बजे तक ही होता है किंतु इस वारदात को अंजाम देने के लिए लुटेरे ने चार बजे के बाद का समय निर्धारित किया। पुलिस के लिए यह भी जांच का पहलू बना हुआ है। चार बजे के बाद कैश को स्ट्रांग रूम में रख दिया जाता है। इसके एक चाबी कैशियर और दूसरी शाखा प्रबंधक के पास होती है। बैंक कर्मचारियों की यह लापरवाही भी संयोग ही थी?


LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here