चुरू। सरदारशहर पुलिस हिरासत में मारपीट के बाद युवक की मौत के मामले में वृत्ताधिकारी भंवरलाल मेघवाल को निलम्बित कर दिया गया है, वहीं एसपी राजेन्द्र कुमार को पदस्थापन की प्रतीक्षा में जयपुर मुख्यालय भेज दिया गया है।

सरदारशहर थाना पुलिस ने एक युवक को हिरासत में लिया था, जिसकी बाद में मौत हो गयी। मृतक की भाभी ने आरोप लगाया है कि उसे व उसके देवर को पुलिस ने बुरी तरह टार्चर किया। नेमीचंद की मौत के मामले में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने एसपी राजेन्द्र कुमार को एपीओ कर दिया है। वहीं सीओ भंवरलाल मेघवाल को सस्पेंड कर दिया गया है।

मोदी सरकार सार्वजनिक कंपनियों की हिस्सेदारी बेचकर 3 लाख करोड़ रुपये जुटाने के प्रयास में

भंवरलाल मेघवाल ऐसे पुलिस अधिकारी हैं, जिनके लिए पुलिस हिरासत में मौत का मामला नया नहीं है।

पुरानी आबादी पुलिस थाना में जब भंवरलाल मेघवाल एसएचओ थे, तब भी युवक की पुलिस हिरासत में मौत हो गयी थी। उस समय वे एसआई थे। वे कइ्र माह तक न्यायिक अभिरक्षा में भी रहे थे। पर्याप्त साक्ष्य के अभाव में वे बरी हो गये थे।

अब उनके साथ इस तरह का यह दूसरा मामला जुड़ गया है जिसमें उनके खिलाफ कार्यवाही हुई है।

क्या भगवान हनुमान के अवतार थे नीम करौली बाबा?

पुरानी आबादी में भी चोरी के मामले में युवक को लाया गया था। वहां पर उसकी पिटाई के आरोप लगे थे। अब सरदारशहर पुलिस थाना में भी नेमीचंद के साथ मारपीट के आरोप लगे हैं। वे सरदारशहर पुलिस थाना के सुपरविजन अधिकारी थे। वहां तीन दिन तक देवर-भाभी के साथ मारपीट होती है तो यह गंभीर प्रकृति का मामला है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here