Police Officer Kuldeep charan
श्रीगंगानगर यातायात पुलिस थाना के एसएचओ कुलदीप चारण।

श्रीगंगानगर। राजस्थान के श्रीगंगानगर जिले में यातायात थाना पुलिस काफी बदनाम रही है। वाहन चालकों से अवैध वसूली को लेकर आरोप लगते रहे हैं किंतु पिछले 7-8 माह में हालात में काफी सुधार हुआ है।

राजस्थान में पुलिस और भ्रष्टाचार का वही संबंध है जो चोली और दामन का रहा है। इसलिस इस विषय पर समाचार पत्रों में रोजाना ही समाचार पढ़ने को मिलते रहे हैं किंतु इन समाचारों के बीच में सुखद और सकारात्मक समाचार भी मिल रहा है जो अनेक लोगों के जीवन को बचा भी रहा है।

श्रीगंगानगर यातायात थाना पुलिस ने पिछले 7-8 माह में लगातार सड़क दुर्घटनाओं में कमी लाने के लिए काम किया। अनेक कार्यक्रम आयोजित किये। स्कूल और कॉलेज में पहुंचकर छात्र-छात्राओं को सड़क नियमों के बारे में बताया।

सबसे बड़ी चर्चा यातायात थाना पुलिस की इसलिए भी हो रही है कि उसने हाल ही में सर्दी और धुंध के मौसम में सड़कों पर खड़े होकर ट्रक चालकों को रूकवाया। उनको गर्म चाय पिलायी। उनको सड़क दुर्घटनाओं की कमी के लिए जो नियम सरकार ने बनाये हैं, उसके बारे में जानकारी दी। उनके जीवन का उनके परिवार में क्या महत्व है, इस बारे में भी विस्तार से बताया। ट्रक चालकों को यह भी बताया गया कि उनकी सतर्कता से दूसरों के जीवन को भी बचाया जा सकता है। सड़क दुर्घटनाओं में घायल लोगों को अस्पताल पहुंचाये जाने पर भी हादसों में होने वाली जनहानि को भी कम किया जा सकता है। यह पाठ इस तरह से पढ़ाये गये जैसे बच्चों को कक्षा में क्लास टीचर ज्ञान देता है।

यातायात थाना पुलिस ने ट्रक और अन्य भारी वाहन चालकों को यह भी बताया कि रात्रि सफर के दौरान अगर शरीर में थकावट का अनुभव होता है तो तुरंत नजदीकी होटल/ढाबा, पेट्रोल पम्प अथवा अन्य सुरक्षित स्थान पर रोककर उनको विश्राम करना चाहिये। इसके उपरांत ही गंतव्य के लिए यात्रा करनी चाहिये।

राजस्थान में कुपोषण : फोर्टिफाइड आटा सर्वोत्तम विकल्प सामने आता है

शहरी क्षेत्र में डिवाइडर के बीच गैर आवश्यकता वाले कट को चिन्हित किया। इन डिवाइडर कट के बीच विकल्प के रूप में अपने बैरिकेट्स लगाये ताकि सड़क दुर्घटनाओं में कमी आ सके।

यातायात पुलिस के यह प्रयास रंग भी लाये हैं। शहरी क्षेत्र और एनएच पर पिछले 5-6 माह में सड़क दुर्घटनाओं में कमी आयी है। सिर्फ जागरुकता से एक भी जीवन बचाया जा सकता है तो वह प्रयास प्रशंसनीय होता है और यातायात थाना पुलिस ने विपरीत परिस्थितयों में भी अच्छा काम किया और सड़क दुर्घटनाओं की कमी के लिए प्रयास हो सकते थे, उसमें बेहतर कार्य किया।

कोरोना : विश्व में हालात खराब, ईटली में सिनेमा घर तो दक्षिण कोरिया में चर्च घर बंद

विपरीत परिस्थितयां इसलिए क्योंकि नगर परिषद के अंतर्गत आने वाला रविन्द्र पथ गड्‌ढों से भरा पड़ा है। हर एक फीट पर गहरा गड्‌ढा है। इसके बावजूद यातायात पुलिस जाम को कम करने और सड़क दुर्घटनाओं में कमी लाने में कामयाब रही है तो  उसकी प्रशंसा की जानी चाहिये। शहर के बाशिंदे इस मसले पर कोई कमी भी नहीं रख रहे। वे मानते हैं कि कुलदीप चारण के एसएचओ बनने के बाद हालात बेहतर हुए हैं।

श्री चारण ने जो मेहनत की है, सामाजिक और शिक्षण संस्थाएं यातायात प्रबंधन में अब पुलिस के साथ बेहतर तालमेल कर काम कर रही हैं।