ips rashi dogra dudi
पुलिस अधीक्षक राशि डोरा। फाइल फोटो

श्रीगंगानगर। राजस्थान के श्रीगंगानगर और हनुमानगढ़ जिले की व्यवस्था में कोई ज्यादा परिवर्तन नहीं हुआ है। 25 मार्च से चल रही 21 दिवसीय लॉकडाउन की अवधि कल समाप्त हो रही है और इस दौरान 20वें दिन भी लोग घरों में ही रहे। हनुमानगढ़ जिला मुख्यालय पर कोरोना पॉजिटिव मामला सामने आने के उपरांत करफ्यू आज तीसरे दिन भी जारी रहा। आवश्यक सेवाओं वाली दुकानें भी बंद रहीं। पुलिस हर गली और मोहल्ले में गश्त करती हुई नजर आयी। श्रीगंगानगर के लिए राहत की खबर यह भी रही कि कल भेजे गये चारों सैम्पल की रिपोर्ट निगेटिव रही है।

हनुमानगढ़ जिले में आज तीसरे दिन भी करफ्यू जारी रहा। शनिवार को दो लोग कोरोना पॉजिटिव के रूप में डिटेक्ट हुए थे। उसके बाद टाउन थाना क्षेत्र में करफ्यू लगा दिया गया। करीबन 50 लोगों को क्वारंटीन किया गया था। इनमें अधिकांश वे लोग थे जो पॉजिटिव लोगों के सम्पर्क में आये थे। इनमें 36 के सैम्पल लिये गये। आज 23 की रिपोर्ट प्राप्त हो गयी। यह सभी लोग निगेटिव रहे हैं।

करफ्यू के दौरान हनुमानगढ़ में कुछ अखबारों का प्रकाशन नहीं होने की जानकारी भी सामने आयी है। वरिष्ठ पत्रकार राजू रामगढिया ने बताया कि हॉकर्स अखबार वितरण का कार्य भी नहीं कर पाये। मेडिकल स्टोर्स भी बंद रहे। दूध की सप्लाई बनी रही। वहीं अन्य आवश्यक वस्तुओं की आपूर्ति के लिए पुलिस और डीएम कार्यालय की ओर से व्यवस्था करने का दावा किया गया।

श्रीगंगानगर जिले में आज चार लोगों की रिपोर्ट प्राप्त हुई। चारों रिपोर्ट निगेटिव आयी है। पीएमओ ने बताया कि रविवार को चार लोगों के सैम्पल लिये गये, उनकी रिपोर्ट सोमवार को प्राप्त हुई। आज पांच लोगों के सैम्पल लेकर बीकानेर भेजे गये हैं। पीएमओ ने बताया कि जिला अस्पताल में 19 लोग आइसोलेशन वार्ड में भर्ती किया गया।

श्रीगंगानगर डीएम शिवप्रसाद नकाते ने बताया कि राज्य सरकार के निर्देशानुसार जिले के सभी निजी चिकित्सालयों में चिकित्सकीय सेवाएं प्रदान करने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने कहा कि निर्देशों की पालना नही होने की स्थिति में अस्पताल संचालकों के विरुद्ध नियमानुसार कार्यवाही की जा सकती है।
श्री नकाते ने बताया कि लॉकडाउन के दौरान यह बात सामने आई कि कुछ निजी अस्पतालों ने सामान्य ओपीडी, आईपीडी सहित आपातकालीन सेवाएं बंद कर दी हैं। इससे मरीजों को भारी असुविधा का सामना करना पड़ रहा है। उन्होंने बताया कि राजस्थान स्टेट हैल्थ एश्योरेंस एजेंसी ने एक अप्रैल को ही ओपीडी सेवाएं निर्बाध रूप से जारी रखने के लिए दिशा-निर्देश जारी कर दिए थे । इसके उपरान्त भी कई निजी अस्पतालों द्वारा मरीजों को आवश्यक सेवाएं प्रदान नही की जा रही हैं और सरकारी अस्पताल में मरीजों को रैफर किया जा रहा है। इससे मरीजों को भी परेशानी हो रही है और राजकीय चिकित्सालयों पर भी अनावश्यक रूप से कार्यभार बढ़ रहा है। इसे ध्यान में रखते हुए निजी अस्पतालों को पुनः स्पष्ट निर्देश दिए गए हैं।

कोविड-19 के दौरान सोशल डिस्सटेंसिंग के लिये एक ऑनलाइन एप्लीकेशन के माध्यम से किराना स्टोर्स अपना जरूरी सामान विभिन्न निर्माताओं और वितरकों से उचित मूल्यों पर खरीद पाएंगे। राजस्थान में उपस्थित कोई भी किराना स्टोर इस ऑनलाइन एपलीकेशन पर रजिस्टर करके इस सुविधा का लाभ उठा सकते हैं तथा राजस्थान सरकार की इस मुहिम से जुड़ सकते हैं।जिला कलक्टर श्री नकाते ने बताया कि सूचना प्रोद्यौगिकी विभाग के अधिकारी जिले के किराना स्टोर्स को इस एप्प से जुड़ने में मदद करें। ’ई-बाजार डीलशेयर एप्प’ को इस लिंक के माध्यम से इनस्टॉल करें।https://ebazarkirana.dealshare.in/apk/ebazar_dealshare.apk या फिर मैसेज के नीचे दिए गए क्यूआर कोड को स्केन करें। उन्होंने बताया कि कोविड-19 के दौरान धारा 144 व लोकडाउन की स्थिति में नागरिक घरों से बाहर नही निकलें, घर पर ही रहें तथा ई-बाजार की सुविधा का लाभ लेकर आवश्यक सामान प्राप्त किया जा सकता है।

राजस्थान में एपेक्स बैंक इंदर सिंह ने बताया कि खरीफ सीजन में केन्द्रीय सहकारी बैंक श्रीगंगानगर को सर्वाधिक 700 करोड़ रुपये का ऋण वितरित करेगा ।
हनुमानगढ़ को 630 करोड़ रुपये, बाड़मेर को 600 करोड़ रुपये, जयपुर को 570 करोड़ रुपये, पाली को 500 करोड़ रुपये, सीकर को 470 करोड़ रुपये, जोधपुर एवं चित्तौड़गढ़ को 460-460 करोड़ रुपये, जालोर को 450 करोड़ रुपये, भीलवाड़ा को 430 करोड़ रुपये, झालावाड़ को 410 करोड़ रुपये, झुन्झुनूं को 350 करोड़ रुपये, नागौर एवं कोटा को 340-340 करोड़ रुपये, अलवर को 330 करोड़ रुपये, अजमेर 310 करोड़ रुपये तथा भरतपुर 300 करोड़ रुपये का अल्पकालीन ऋण वितरण करने के लिए राशि प्रदान की जायेगी।

श्रीगंगानगर जिले के सादुलशहर थाना क्षेत्र में नुरपुरा गांव में लॉकडाउन की अवधि के दौरान भी बाहरी लोगों के प्रवेश के उपरांत मॉनिटिरंग व्यवस्था पर भी सवाल उठ गया है। ग्रामीण क्षेत्र में निगरानी के लिए अनेक सरकारी कर्मचारियों और अधिकारियों को विभिन्न जिम्मेदारी देते हुए लगाया गया है किंतु इसके उपरांत भी बाहरी लोग गांव में आये। इससे प्रशासन को व्यवस्था पर निगरानी के लिए और बेहतर प्रयास करने की आवश्यकता महसूस हो रही है।

हनुमानगढ़ के तलवाड़ा थाना पुलिस ने दो लोगों को लॉकडाउन नियमों की अवहेलना कर राजस्थान में प्रवेश करने पर गिरफ्तार कर लिया। उनके खिलाफ भादंसं की धारा 269 के तहत मुकदमा दर्ज किया गया है। दोनों की पहचान हरमनदीपसिंह व मनदीपसिंह के रूप में हुई है।

रावतसर थाना पुलिस ने दो लोगों को अवैध हथियार सहित गिरफ्तार करने में सफलता हासिल की है। सैफ अली खां निवासी 1 एलके तथा सद्दाम हुसैन निवासी लखुवाली को अवैध हथियारों सहित गिरफ्तार कर उनके विरुद्ध आर्म्स एक्ट के तहत मुकदमे दर्ज किये गये हैं।