भारत के हिन्दी समाचार
राष्ट्रपति डोनालड ट्रम्प ओर इवांका ट्रम्प। फाइल फोटो

वाशिंगटन। कभी विश्व की एक धरोहर समझा जाने वाला वर्ल्ड ट्रेड टॉवर अब अस्तित्व में नहीं है। आज ही के दिन 11 सितंबर 2001 को एक आतंकी हमले में इस टॉवर को धवस्त कर दिया गया। चार विमानों का अपहरण किया गया और इस टॉवर से टकराया गया। घटना में 3 हजार निर्दोष अमेरिकी लोग मारे गये। घटना की आज बरसी थी और राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प, प्रथम महिला मिलेनिया ट्रम्प, उप राष्ट्रपति माइक पेंस, आर्थिक सलाहकार इवांका ट्रम्प ने अमेरिकी लोगों को याद किया और उनकी याद में दो मिनिट्स का मौन रखकर उनको अपनी श्रद्धांजली अर्पित की।

राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने शोक संदेश में कहा, आपका बलिदान भुलाया नहीं जा सकता और आपको सदैव याद रखा जायेगा। इवांका ने भी कहा कि 9/11 को अमेरिकी लोग भूल नहीं सकते।

ट्रम्प की नीतियों को बड़ी जीत हासिल, बहरीन-इजरायल के बीच शांति समझौता

न्यूयार्क में घटनास्थल पर भी एक श्रद्धांजली सभा का आयोजन किया गया, जिसमें डेमोक्रेट्स नेता जोई बिडेन सहित अन्य लोग उपस्थित थे।

बिडेन का अपने स्वास्थ्य को लेकर हास्यास्पद बयान

वाशिंगटन। अमेरिका में इन दिनों राष्ट्रपति पद के लिए चुनाव प्रचार गति पकड़ रहा है तो उस समय डेमोक्रेटिक पार्टी के उम्मीदवार जोई बिडेन का एक हास्यास्पद बयान सामने आया है। उन्होंने पारदर्शी प्रशासन देने की बात नहीं की कि बल्कि अपने स्वास्थ्य को लेकर पारदर्शी रहने का बयान दिया है।

अमेरिका में डेमोक्रेटिक पार्टी की ओर से राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार जॉय बिडेन ने कहा है कि यदि वह राष्ट्रपति चुने जाते हैं तो अपनी स्वास्थ्य को लेकर पूरी तरह पारदर्शी रहेंगे।

श्री बिडेन ने सीएनएन को दिये साक्षात्कार के दौरान यह वादा किया। उन्होंने कहा, “ईश्वर का शुक्र है कि मेरा स्वास्थ्य अच्छा है। मैं भाग्य का बहुत सम्मान करता हूं।

श्री ट्रंप ने श्री बिडेन की उम्र को लेकर कई बार सार्वजनिक सभाओं में हमला किया है।

जंगल में लगी आग में 23 लोगों की मौत

अमेरिका के पश्चिमी हिस्से में बड़े पैमाने पर फैली जंगल की आग ने लाखों एकड़ भूमि को नष्ट कर दिया और कम से कम 23 लोगों की मौत हो गई।

यूएसए टुडे ने शुक्रवार को यह जानकारी दी। देश के 12 पश्चिमी राज्यों में कम से कम 102 प्रमुख स्थानों पर लगी आग ने 44 लाख एकड़ भूमि को तबाह कर दिया है।

जंगल में लगी आग के कारण कैलिफोर्निया में 19 लोगों की मौत हुई है जबकि ओरेगन मेें तीन लोगों तथा वाशिंगटन में एक व्यक्ति की मौत हुई है। अभी भी दर्जनों लोग लापता हैं जबकि हजारों लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया गया है।

अमेरिकी नेशनल इंटरजेंसी फायर सेंटर के ताजे अपडेट के अनुसार शुष्क वायु द्रव्यमान के बीच जंगलों की अपतटीय हवाओं के कारण वेस्ट कोस्ट में आग की गंभीर स्थिति उत्पन्न होने की संभावना है।

अफगानिस्तान और इराक में अपने सैनिकों की संख्या कम करेगा अमेरिका : ट्रम्प
अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने कहा है कि अफगानिस्तान और इराक में तैनात अमेरिकी सैनिकों की संख्या में कटौती कर उसे जल्द ही क्रमश: चार हजार और दो हजार कर दिया जायेगा।

श्री ट्रम्प ने शुक्रवार को व्हाइट हाउस में आयोजित प्रेस वार्ता में कहा, “ अफगानिस्तान में इस दिशा में काफी प्रगति हुई है, लेकिन हम जल्द ही वहां तैनात अमेरिकी सैनिकों की संख्या को कम कर चार हजार तक सीमित कर देंगे। इसी तरह इराक में भी अमेरिकी सैनिकों की मौजूदगी को कम किया जायेगा और उसे घटाकर दो हजार कर दिया जायेगा।”

श्री ट्रम्प ने अफगानिस्तान और इराक में तैनात अमेरिकी सैनिकों की संख्या और कम करने की जिस योजना की जानकारी दी है वह अमेरिकी सेना की योजना का ही एक हिस्सा है।

अमेरिकी सेना की सेंट्रल कमान के कमांडर कैनेथ मैकेंजी ने बुधवार को कहा था कि सितंबर के अंत तक इराक में तैनात अमेरिकी सैनिकों की संख्या को घटाकर तीन हजार कर दिया जायेगा जबकि नवंबर की शुरुआत में अफगानिस्तान में अमेरिकी सैनिकों की संख्या को कम कर 4500 तक सीमित कर दिया जायेगा।

गौरतलब है कि अफगानिस्तान में शांति स्थापित करने को लेकर इस वर्ष फरवरी में अमेरिका और तालिबान के बीच एक समझौता हुआ था जिसके तहत 18 वर्षों से चल रहे संघर्ष को खत्म करने के लिए अमेरिका ने अपने सैनिकों की संख्या को कम करने पर सहमति जताई थी। इस समझौते के तहत यदि तालिबान अपने वादों पर कायम रहता है तो 14 महीनों के भीतर अफगानिस्तान से अमेरिकी सेना की पूरी तरह से वापसी हो जायेगी।

ट्रम्प के चुनाव अभियान को प्रभावित कर सकते हैं विदेशी हैकर्स

अमेरिका की टेक कंपनी माइक्रोसॉफ्ट ने कहा है कि देश में होने वाले राष्ट्रपति चुनावों के अभियानों में शामिल लोगों और संगठनों को चीन व उसके कुछ सहयोगी देशों के साइबर हमलावर निशाना बना रहे है।

कंपनी ने अपने ब्लॉग में लिखा, “हाल के हफ्तों में माइक्रोसॉफ्ट ने आगामी राष्ट्रपति चुनाव में शामिल लोगों और संगठनों को निशाना बनाने वाले साइबर हमले का पता लगाया है, जिसमें राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप से जुड़े लोगों पर असफल हमले शामिल हैं।”

उन्होंने कहा कि इस तरह के हमले अप्रत्याशित नहीं थे, “आज हम जिस गतिविधि की घोषणा कर रहे हैं, उससे स्पष्ट होता है कि विदेशी समूहों ने 2020 के चुनाव को निशाने पर लेने के अपने प्रयासों को आगे बढ़ाया है, जैसा कि पहले से ही मालूम था।”