राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प
अमेरिका के राष्ट्रपति श्री डोनाल्ड ट्रम्प चुनावी रैली को संबोधित करते।

वाशिंगटन। राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने अपना चुनाव प्रचार तेज कर दिया है और डेमोक्रेट्स नेताओं पर जमकर निशाना साधा है जो बैलेट पेपर के स्थान पर ईमेल के माध्यम से चुनाव करवाने की मांग कर रहे थे। श्री ट्रम्प ने कहा कि जब लोग आंदोलन, हिंसक प्रदर्शन के लिए घरों से बाहर निकल सकते हैं। डेमोक्रेट्स उनका समर्थन कर सकते हैं तो बूथ पर मतपत्रों से मतदान क्यों नहीं करवाया जा सकता।

अमेरिका में रंग और धर्म के आधार पर किसी से भेदभाव नहीं : डोनाल्ड ट्रम्प

डेमोक्रेटिक पार्टी के नेता जोई बिडेन पिछले कुछ दिनों से प्रचार कर रहे थे और मांग कर रहे थे कि चुनाव ईमेल के माध्यम से करवाया जाये। इसका करारा जवाब डोनाल्ड ट्रम्प ने दिया है।

श्री ट्रम्प ने कहा कि प्रथम विश्व युद्ध और द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान भी मतदान हुआ था। अब डेमोक्रेटिक पार्टी के नेता कोविड-19 को लेकर बहानेबाजी कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि ईमेल से हुए चुनाव को निष्पक्ष नहीं माना जा सकता।

वहीं राष्ट्रपति कार्यालय की प्रवक्ता ने भी हिंसाकारी लोगों को निशाने पर लिया। उनका आरोप था कि उन्होंने अहिंसावादी महात्मा गांधी और जॉर्ज वाशिंगटन तक की मूर्तियों को खंडित कर दिया।

श्रीगंगानगर में कोरोना से दूसरी मौत, दिल्ली रिटर्न था मरीज

उल्लेखनीय है कि इस समय अमेरिका में चुनाव प्रचार चरम पर है। आगामी 3 नवंबर को मतदान होना है। उससे पूर्व श्री ट्रम्प ने शनिवार को तुलसा में रैली की थी। इस रैली में एतिहासिक भीड़ थी। लोगों के उत्साह को देखकर राष्ट्रपति श्री ट्रम्प ने कहा था कि वो जाति, रंग और नस्ल के आधार पर भेदभाव नहीं करते।

श्री ट्रम्प ने कहा कि जोई बिडेन 47 सालों से राजनीति में हैं और वे अश्वेत लोगों के साथ जो अच्छा या बुरा हुआ, उसको नहीं रोक पाए। उन्होंने सवाल किया कि क्या यह बिडेन की विफलता नहीं है?

कोरोना वायरस के बाद ट्रम्प की शनिवार को पहली चुनावी रैली थी।