fM Mahmood Qureshi
पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी

इस्लामाबाद। पाकिस्तान के विदेश मंत्री महमूद कुरैशी बुधवार से दो दिन की यात्रा पर अमेरिका जा सकते हैं। पश्चिम एशि या मेंतनाव के बाद पाकिस्तान में भी हलचल थी क्योंकि ईरान और पाकिस्तान की सीमा लगती हैं।

अमेरिका ने पिछले सप्ताह ईरान के प्रमुख सेना अधिकारी कासिम सुलेमानी को एक ड्रोन हमले में मार गिराया था। इसके बाद दोनों देशों के बीच तनाव बढ़ गया था और ईरान ने जवाबी कार्यवाही में ईराक स्थित अमेरिका के सैन्य ठिकानों को निशाना बनाते हुए वहां मिसाइल गिराये थे और दावा किया था कि अमेरिका के 80 सैनिकों केा मार गिराया गया है जबकि अमेरिकी मीडिया और राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने इस घटना के बाद ऑल इज वेल का संबोधन करते हुए ट्विट किया था।

इलाहाबाद बैंक रॉबरी में पुलिस के हाथ दूसरे दिन भी खाली

हालांकि माना जा रहा था कि इस हमले के बाद अमेरिका, ईरान के साथ युद्ध की घोषणा कर सकता है किंतु राष्ट्रपति चुनावों के मौसम में ट्रम्प ने इस तरह का रिस्क नहीं लिया। युद्ध से अमेरिकी मुद्रा का हृास होना था और पेट्रोल-डीजल की कीमतों में बढ़ोतरी से विश्व की अर्थव्यवस्था को गहरा धक्का लगता। अमेरिका चीन के साथ पूर्व में ही ट्रेड वॉर (usa-china trade war) में उलझा हुआ है।

पाकिस्तान के विदेश मंत्री ने इस घटनाक्रम के बीच सउदी अरब और ईरान की यात्रा की थी। वे इन दोनों देशों के अपने समकक्ष से भी मिले थे। ईरान और पाकिस्तान पड़ोसी देश हैं और युद्ध के हालात में सबसे ज्यादा असर पाकिस्तान पर ही होना था क्योंकि पाक पूर्व में ही कड़वे आर्थिक हालात का सामना कर रहा है।

इराकी नेता निजी तौर पर चाहते हैं अमेरिकी सेना की मौजूदगी : पोम्पिओ

इन दोनों देशों की यात्रा के बाद बुधवार को विदेश मंत्री ईरान की यात्रा पर जा सकते हैं। समाचार एजेंसी एएनआई ने अपनी रिपोर्ट में बताया है कि श्री कुरैशी अपनी यात्रा के दौरान यूएस विदेश मंत्री माइक पोम्पियो (@secpompeo) से भी मुलाकात करेंगे। इसके अतिरिक्त उनका संयुक्त राष्ट्र संघ के महासचिव एंटेनियो गुटरेस से भी मिलने का कार्यक्रम है।