व्यापार में पारदर्शिता और विश्वास पर जोर दें सभी देश: भारत

जेनेवा 10 सितम्बर (वार्ता) भारत ने संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद (यूएनएचआरसी) की बैठक में मंगलवार को पाकिस्तान पर जोरदार रूप से बरसते हुए उस पर अपनी जमीन से आतंकवादी गतिविधियों काे अंजाम देने का आरोप दोहराया और विश्व समुदाय से अंतरराष्ट्रीय समुदाय के गंभीर चुनौती बने इस ‘खतरे’ पर एकजुट होने का अाह्वान किया।

विदेश मंत्रालय में सचिव ( पूर्व ) विजय ठाकुर सिंंह ने यूएनएचआरसी की 42 वीं बैठक को संबोधित करते हुए कहा कि विश्व खासकर भारत, ने किसी देश द्वारा प्रायोजित आतंकवाद का बड़ा दंश झेला है। अब समय आ गया है कि ‘जीने’ के अधिकार जैस आधारभूत मानवाधिकार के लिए खतरा बने आतंकवादी समूहों और उन्हें शह देने वाले देश के खिलाफ विश्व समुदाय सर्वसम्मति से निर्णायक फैसला ले।

पाकिस्तान-चीन संयुक्त वक्त्तव्य में जम्मू-कश्मीर का उल्लेख अस्वीकार्य: भारत
सुश्री ठाकुर ने कहा कि विश्व समुदाय को इसके खिलाफ आवाज बुलंद करनी चाहिए। चुप रहने से आतंकवाद को केवल बढ़ावा ही मिलेगा और आतंकवादी गतिविधियों को अंजाम देने की उनकी कुलसित एवं घिनौनी मानसिकता को भी बल मिलेगा। उन्होंने कहा,“ भारत विश्व समुदाय से आतंकवाद और उसे प्रायोजित करने वालों के खिलाफ लड़ाई में एकजुट होने की अपील करता है।”
सुश्री सिंह ने पाकिस्तान पर भारत के खिलाफ लगातार गलत बयानबाजी करने का आरोप लगाते हुए कहा,“ विश्व को पता है कि ,‘अंतरराष्ट्रीय आतंकवाद के केन्द्र ’से भारत के खिलाफ गलत बयानबाजी की जा रही है और उस देश में आतंकवाद के आकांओ को वर्षों से पनाह मिलता रहा है।”