श्रीगंगानगर। श्रीगंगानगर पुलिस ने 24 ओ भुट्‌टीवाला में शनिवार को महेन्द्रसिंह जटसिख नामक व्यक्ति की हत्या के बाद शव के साथ लगाया गया धरना तो रविवार को समाप्त करवा दिया किंतु आरोपितों को 48 घंटे बाद भी पहचान नहीं कर पाई है। पुलिस के हाथ खाली हैं। जिला मुख्यालय से एक बार फिर से डॉग स्कवायड को बुलाया गया।

पुलिस सूत्रों से प्राप्त जानकारी के अनुसार शनिवार को गांव 24 ओ में महेन्द्रसिंह जटसिख नामक व्यक्ति की हत्या कर दी गयी थी। पुलिस ने मृतक के भाई की रिपोर्ट के आधार पर अज्ञात व्यक्ति के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया था।

क्या बठिण्डा-फिरोजपुर-श्रीगंगानगर को नहीं बनाया जा सकता विशेष इक्नोमिक जोन?

पुलिस का मानना है कि हत्या में अवैध संबंध कारण हो सकते हैं और उस आधार पर जांच को आगे बढ़ाया जा रहा है।

जांच अधिकारी श्यामसिंह ने बताया कि मृतक ज्यादा शराब पीने का आदी था। इन हरकतों से तंग आकर उसकी पत्नी उसका घर छोड़कर चली गयी थी। उसके पास 5 बीघा जमीन थी जिसको वह ठेके पर दिया करता था। उसका गांव की दो महिलाओं के पास आना-जाना भी था। एक महिला के परिवारवालों ने तो कुछ समय पहले पंचायत भी की थी।

थानाधिकारी राजकुमार राजौरा ने बताया कि शनिवार को ग्रामीणों ने शव के साथ शनिवार शाम को धरना लगा दिया था। धरना पूरी रात चला और आज प्रात: वार्ता का दौर आरंभ हुआ। वार्ता के बाद परिवारजनों और ग्रामीणों को आश्वस्त किया गया कि पुलिस इस मामले में निष्पक्षता से जांच करेगी। किसी को भी नाजायज रूप से तंग अथवा परेशान नहीं किया जायेगा।

श्रीगंगानगर में सीएमएचओ के पद को लेकर विवाद गहराया

पुलिस अधिकारियों के इस आश्वासन के बाद आज शाम करीबन 5 बजे अन्तिम संस्कार कर दिया गया। संस्कार के बाद पुलिस ने अपनी जांच को और तेज कर दिया है। थानाधिकारी ने बताया कि कल पुलिस को घटनास्थल से टायरों के निशान मिले थे। यह निशान मोटरसाइकिल के टायरों के थे। हत्यारा गांव का ही कोई व्यक्ति हो सकता है, इस कारण पुलिस उन लोगों पर नजर रखे हुए है जिनका महेन्द्रसिंह से ज्यादा सम्पर्क रहता था क्योंकि उसने ही वारदात को अंजाम देने के बाद शव उसके घर में फेंक दिया था।

थानाधिकारी ने बताया कि आज जिला मुख्यालय से डॉग स्कवायड और एफएसएल की टीम को बुलाया गया। इन टीमों को कुछ सुराग मिले हैं। इस सुराग के आधार पर जांच को आगे बढ़ाया जा रहा है। संदिग्ध लोगों के कॉल डिटेल निकलवायी जा रही है। शीघ्र ही मामले का खुलासा कर दिया जायेगा।

शव के साथ लगाया गया धरना इस बात की ओर भी इशारा करता है कि पुलिस पर लोगों का विश्वास दिन बीतने के साथ कमजोर होता जा रहा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here