Captain amrinder singh

चंडीगढ़ 10 जुलाई, पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने खालिस्तान समर्थक समूह ‘सिख फॉर जस्टिस’ (एसएफजे) पर प्रतिबंध लगाए जाने संबंधी केंद्र सरकार के निर्णय का बुधवार को स्वागत किया। उन्होंने कहा कि इसे आतंकवादी संगठन के रूप में देखा जाना चाहिए।
सिंह ने इस फैसले को आईएसआई समर्थित संगठन के भारत-विरोधी या अलगाववादी ताकतों से देश की रक्षा करने की तरफ पहला कदम बताया। अधिकारियों ने बताया कि एसएफजे की कथित राष्ट्रविरोधी गतिविधियों के कारण सरकार ने इस समूह पर बुधवार को प्रतिबंध लगा दिया।

कर्नाटक के दो बड़े मंत्रियों ने विधानसभा की सदस्यता से दिया इस्तीफा, 16 हुई बागियों की संख्या

अमेरिका स्थित एसएफजे अपने अलगाववादी अजेंडे के तहत सिख जनमत संग्रह 2020 पर जोर देता है। सिंह ने यहां जारी एक बयान में कहा, ‘इस संगठन को आतंकवादी संगठन के रूप में देखा जाना चाहिए और भारत सरकार ने एसएफजे के खिलाफ लंबे समय से अपेक्षित रुख अपनाया है, जिसने हाल के वर्षों में पंजाब में आतंक की लहर फैला दी थी।’ हालांकि, उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार को राष्ट्रीय सुरक्षा के हित में एसएफजे और उससे जुड़े लोगों या गुर्गों पर आक्रामक तरीके से कार्रवाई करने के लिए और अधिक सक्रिय कदम उठाने होंगे।