रोंहिग्या शरणार्थियों के लिए बनाये गये मकान
भारत के राजदूत रिखाइन सरकार के प्रतिनिधि को नवनिरर्मित मकान की चाबियां सौंपते हुए।

नई दिल्ली। भारत के पड़ोसी देश म्यांमार के राखिन इलाके में रोंहिग्या समुदाय के लिए भारत ने बड़ी पहल करते हुए 250 मकानों का पुनर्निर्माण किया है और इसे लोगों को सौंप दिया गया है।

म्यांमार के राखिन क्षेत्र में 7 लाख से अधिक रोंहिग्या समुदाय के लोग रहते थे। वर्ष 2017 में रोंहिग्या समुदाय को एक कार्यवाही करके कथित रूप से म्यांमार सेना ने खदेड़ दिया था।

पाकिस्तान के साथ आतंकवाद पर भी बातचीत करेगा अमेरिका

यह समुदाय अपने देश से निकलकर भारत और बांग्लादेश जैसे पड़ोसी देशों में शरणार्थी बन गये थे। इस बीच भारत सरकार इनकी मदद के लिए आगे आयी है। टूटे हुए मकानों का निर्माण किया जा रहा है। 250 मकानों को बनाकर सौंपा गया है।

क्या राजस्थान के बजट ने युवाओं को निराश नहीं किया?

म्यांमार सरकार ने रोंहिग्या समुदाय के लिए बाजार और स्कूल निर्माण के लिए भी आग्रह किया है। समाचार एजेंसी रायटर का दावा है कि भारत इस क्षेत्र में 25 मिलियन डॉलर से विकास कार्य करवा रहा है।