वाशिंगटन। फेसबुक ने प्रस्तावित 2020 तक अपनी डिजिटल करंसी जारी करनी है और इस बीच राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प के बयान ने उनके इस अभियान की हवा निकाल दी है। ट्रम्प ने कहा है कि फेसबुक या उनके सहयोगी डिजिटल करंसी जारी करना चाहते हैं तो उन्हें पहले फैडरल नियमों के तहत बैंकिंग लाइसेंस लेना होगा।

फेसबुक ने गत माह घोषणा की थी कि वह पेपल, उबेर, मास्टर कार्ड सहित 28 पार्टनरों को साथ लेकर डिजिटल करंसी जारी करने का फैसला किया है। क्रिप्टो करंसी अगले साल 2020 तक क्रियाशील हो जायेगी।

ताइवानी राष्ट्रपति की अमेरिका यात्रा, चीन नाराज

राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने ट्विट किया है कि अगर फेसबुक और उसके सहयोगी क्रिप्टो करंसी के बारे में विचार कर रहे हैं तो उन्हें पहले बैंकिंग नियमों के तहत लाइसेंस लेना होगा। श्री ट्रम्प ने साफ शब्दों में कहा कि वे केवल यूएस डॉलर के प्रशंसक है न कि किसी क्रिप्टो करंसी के। यह अवैध नशा के कारोबार को बढ़ावा देती है। यूएस डॉलर आज दुनिया में सबसे मजबूत है और सबसे पसंदीदा करंसी भी है।

….Similarly, Facebook Libra’s “virtual currency” will have little standing or dependability. If Facebook and other companies want to become a bank, they must seek a new Banking Charter and become subject to all Banking Regulations, just like other Banks, both National…

— Donald J. Trump (@realDonaldTrump) July 12, 2019

वहीं फैडरल रिजर्व के चेयरमैन जेरोम पॉवेल ने कहा है कि मनी लॉड्रिंग, गोपनीयता, उपभोक्ता संरक्षण और वित्तीय स्थिरता के सभी मापदण्ड पूरे करने पर करंसी को अनुमति दी जायेगी। उन्होंने यह भी कहा कि वर्तमान में फेसबुक और उनकी सहयोगी कंपनियों में से किसी के पास भी बैंकिंग लाइसेंस नहीं है। उल्लेखनीय है कि इस समय बिटकॉइन नामक करंसी क्रियाशील है। ध्यान रहे कि डिजिटल करंसी का प्रयोग आतंकवाद को वित्तीय सहायता पहुंचाने में भी हो सकता है। इस तरह से हर कदम सावधानी से रखना होगा।

स्टीव जॉब्स का नीम करौली बाबा से क्या था संबंध?

बिटकॉइन में रोजाना भाव के भारी उतार-चढ़ाव हो रहे हैं और यह विश्व के सभी देशों के लिए चिंता का विषय बने हुए हैं। राष्ट्रपति श्री ट्रम्प ने कहा कि डिजिटल करंसी मजबूत नहीं होती और हवा के हल्के झोंके से उड़ जाती है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here