महिला ने मासूम पुत्री की हत्या के उपरांत आत्महत्या की

श्रीगंगानगर। पाकिस्तान की खुफिया एजेंसियों के साथ पिछले 12 सालों से लगातार सम्पर्क में रहने वाले व्यक्ति को सूरतगढ़ नगरपालिका के पूर्व अध्यक्ष ने अपना कर्मचारी रखा हुआ था। तीन जासूसों को गिरफ्तार कर उनके खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया है।

0
8

श्रीगंगानगर/संगरूर (टीएसएन)। पंजाब के संगरूर जिला मुख्यालय पर एक महिला और उसकी बालिका की लाश मिलने के उपरांत सनसनी फैल गयी। इस घटनाक्रम को देखकर उसका पति भी अस्वस्थ हो गया और उसको अस्पताल में भर्ती करवाया गया।

सिटी थानाधिकारी ने बताया कि अकाल डिग्री कॉलेज के पास रहने वाली अमनदीप कौर (43) पत्नी कर्मजीत सिंह तथा उसकी पांच साल की पुत्री भावना सिंह की लाश उनके घर में मिली। इस मामले में राजेन्द्र पुत्र नरेन्द्र सिंह ने मुकदमा दर्ज करवाया है। थानाधिकारी ने बताया कि प्रथम दृष्टया यह प्रतीत हो रहा है कि अमनदीप कौर ने अपनी पुत्री की हत्या करने के बाद आत्महत्या कर ली। घर में कलह की जानकारी सामने आयी है। मामले को भारतीय दंड संहिता की धारा 306 के तहत दर्ज किया गया है।

पाक जासूसों के खिलाफ मुकदमा, 12 सालों से पाकिस्तान जा रहा था अब्दुल

श्रीगंगानगर। पाकिस्तान की खुफिया एजेंसियों के साथ पिछले 12 सालों से लगातार सम्पर्क में रहने वाले व्यक्ति को सूरतगढ़ नगरपालिका के पूर्व अध्यक्ष ने अपना कर्मचारी रखा हुआ था। तीन जासूसों को गिरफ्तार कर उनके खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया है।
सूत्रों से प्राप्त जानकारी के अनुसार पिछले दिनों सूरतगढ़ के नितिन यादव, हनुमानगढ़ के डबली राठान मौलवी के निवासी अब्दुल सत्तार तथा बाड़मेर निवासी रामसिंह को सीआईडी जोन के अधिकारियों ने पाकिस्तान की खुफिया एजेंसियों को सेना से संबंधित जानकारी देने के आरोप में गिरफ्तार किया गया था।
अब्दुल सत्तार पिछले 12 सालों से लगातार पाकिस्तान जा रहा था। वर्ष 2010 के बाद उसका रिकॉर्ड खंगालने के बाद यह जानकारी सामने आयी। वहीं वह पाक की खुफिया एजेंसियों के सम्पर्क में आ गया था। इस व्यक्ति को सूरतगढ़ नगरपालिका के एक पूर्व अध्यक्ष ने अपने पास नौकरी पर रखा हुआ था जो सेना में फूड सप्लाई के कार्य में जुटा था।

कोतवाली, बिजयनगर और ट्रैफिक में नये प्रभारी
श्रीगंगानगर। पुलिस अधीक्षक ने शनिवार को आदेश जारी कर अनेक थानों के एसएचओ का तबादला कर दिया है। हालांकि माना जा रहा है कि शीघ्र ही एक और तबादला सूची आ सकती है।
सूत्रों से प्राप्त जानकारी के अनुसार पुलिस अधीक्षक ने पुरानी आबादी में कश्यप सिंह के स्थान पर सुरजीत कुमार, कोतवाली में देवेन्द्र सिंह राठौड़, मुकलावा में प्रहलाद चंद, बिजयनगर में रामचंद्र, दौलाराम को रामसिंहपुर तथा कुंवर विश्वजीत सिंह को यातायात शाखा में प्रभारी बनाया गया है।

आठ पुलिस थानों की टीम महंत की तलाश में जुटी, दो संदिग्ध से पूछताछ
श्रीगंगानगर/जालौर (टीएसएन)। जालौर जिले से महंत के अपहरण के 30 घंटे से अधिक समय बीतने के उपरांत भी उनको तलाश नहीं किया जा सका है। शुक्रवार को जहां 6 थानों की पुलिस तलाश में जुटी थी, शनिवार को 8 थानों की पुलिस को इस घटनाक्रम से जांच के लिए जोड़ा गया है।
पुलिस अधीक्षक हर्षवर्धन अग्रवाल ने बताया कि दूधेश्वर महादेव मठ के महंत पारस भारती गुरुवार रात को जागरण के लिए गये थे और इसके उपरांत उनकी कारण सायला थाना क्षेत्र में प्रात: 6 बजे पुलिस को लावारिस हालत में मिली। उनके आश्रम के ही साधु की रिपोर्ट के आधार पर अज्ञात लोगों के खिलाफ अपहरण और रास्ता रोकने के आरोप में मुकदमा दर्ज किया गया था। उनकी कार के साथ तोडफ़ोड़ भी हुई थी, इस कारण भारतीय दंड संहिता की धारा 427 भी एड की गयी।
उन्होंने बताया कि गुरुवार को बाड़मेर के दो युवक उनसे आश्रम में मिले थे। उनको भी पुलिस ने थाना में लाकर पूछताछ की किंतु उनके पास से भी कोई जानकारी हासिल नहीं हो पायी है। श्री अग्रवाल के अनुसार महंत का किसी के साथ रंजिश या प्रोपर्टी को लेकर विवाद सामने नहीं आया है। इस कारण यह मामला गंभीर हो गया है। आठ थानों की पुलिस को जांच के लिए लगाया गया है। हर सीसी कैमरे की फुटेज को चैक किया जा रहा है।

श्रीगंगानगर सहित प्रदेश भर में कांस्टेबल भर्ती परीक्षा प्रभावित हुई

श्रीगंगानगर। प्रदेश के अनेक जिलों में नेटबंदी के कारण पुलिस कांस्टेबल भर्ती परीक्षा भी प्रभावित हुई। ओटीपी देरी से मिलने के कारण परीक्षा पौने घंटे की देरी से आरंभ हुई और 10 बजे के स्थान पर इसको 11 बजे पूर्ण करवाया गया।
पुलिस अधीक्षक आनंद शर्मा ने बताया कि परीक्षा के लिए 6672 कैंडिडेट्स रजिस्टर्ड थे, जबकि 4739 ने परीक्षा दी। परीक्षा 12 केन्द्रों पर आयोजित की गयी। श्री शर्मा ने बताया कि प्रदेश के अनेक जिलों में नेटबंदी है। इस कारण ओटीपी देरी से प्राप्त हुआ। परीक्षा का समय प्रात: 8 से 10 बजे तक था किंतु ओटीपी देरी से मिलने के कारण अभ्यार्थियों को अतिरिक्त समय दिया गया। एसपी ने बताया कि पूरे प्रदेश में परीक्षा का समय प्रभावित हुआ है।

पंजाब-राजस्थान को मिल सकते हैं नये डीजीपी
सरकार शीघ्र जारी करेगी एक और आईपीएस ट्रांसफर लिस्ट
श्रीगंगानगर/चण्डीगढ़/जयपुर। राजस्थान और पंजाब को शीघ्र ही नया पुलिस महानिदेशक मिल सकते हैं। पंजाब में कानून व्यवस्था को लेकर लगातार सवाल उठने के उपरांत महानिदेशक वीके भावरा प्रतिनियुक्ति पर जा रहे हैं। इससे पहले उन्होंने दो महीने का अवकाश भी पंजाब सरकार से मांगा है। वहीं राजस्थान में अगले वर्ष विधानसभा चुनाव हैं तो उससे पहले सरकार नया महानिदेशक देकर राजस्थान पुलिस का नया रूप जनता के सामने पेश करने के लिए प्रयासरत है।
सूत्रों से प्राप्त जानकारी के अनुसार पंजाब पुलिस के महानिदेशक वीके भावरा दो माह के अवकाश पर जा रहे हैं। सरकार ने उनकी छुट्टी को स्वीकृत कर लिया है। अब यूपीएससी को नये महानिदेशक के लिए कम से कम तीन नाम भेजे जायेंगे। उसमें से एक नाम पर संघ लोक सेवा आयोग अपने नाम की सहमति प्रदान कर सकता है। माना जा रहा है कि इस दौरान गोरव यादव अथवा हरप्रीत सिद्धू को चार्ज दिया जा सकता है। वहीं संजीव कालड़ा और शरद सत्य चौहान भी इस रेस में बने हुए हैं।
राजस्थान में भी पुलिस महानिदेशक के पद पर नये चेहरे को लेकर चर्चाएं पीएचक्यू में चल रही हैं। माना जा रहा है कि वर्तमान डीजीपी एमएल लाठर को राजनीतिक नियुक्ति दी जा सकती है। श्री लाठर की पुत्री का विवाह अगले कुछ दिनों के भीतर होना है। सरकार उसके उपरांत नये महानिदेशक के लिए प्रक्रिया आरंभ कर सकती है। सरकारी रिकॉर्ड के अनुसार श्री लाठर 61 साल की आयु को पूर्ण कर चुके हैं। केन्द्र सरकार ने दो वर्ष की अवधि निर्धारित डीजीपी पद के लिए की हुई है, इस कारण उनको एक वर्ष की अवधि का एक्सटेंशन मिल गया था। वे अपना कार्यकाल नवंबर 2022 में पूर्ण करने वाले थे किंतु राज्य में पुलिस का नया फेस प्रदर्शित करने के लिए राज्य सरकार डीजीपी भी बदल सकती है। इस समय अनेक एडीजी है, वहीं कम से कम दो डीजी एसीबी और इंटेलीजेंस इस दौड़ में आगे बताये जा रहे हैं।

नोहर का माहौल बिगाडऩे की कोशिशें जारी, पुलिस व खुफिया तंत्र सतर्क
श्रीगंगानगर। हनुमानगढ़ जिले के नोहर में लगातार उकसावे वाली कार्यवाही हो रही हैं। कुछ दिन पूर्व बाबा रामदेव मंदिर के निकट दो पक्षों में तनाव हो गया था। इस दौरान विश्व हिन्दू परिषद के एक स्थानीय नेता गंभीर रूप से घायल हो गये थे जिनको बीकानेर में भर्ती करवाना पड़ा था। अब प्राचीन शिवालय में मरे हुए कबूतरे डाले गये। इस तरह की घटनाओं को देखकर खुफिया तंत्र भी सतर्क हो गया है।
एक पुलिस अधिकारी से प्राप्त जानकारी के अनुसार नोहर संवेदनशील इलाका बन गया है और इस कारण वहां निगरानी तंत्र को मजबूत किया जा रहा है। शुक्रवार प्रात: प्राचीन शिवालय-संस्कृत पाठशाला के परिसर में मरे हुए कबूतरे मिले थे। इसको लेकर तनाव की जानकारी मिली तो कलक्टर-एसपी ने भी घटनास्थल का निरीक्षण कर लोगों को आश्वासन दिया था कि इस मामले में आगामी कार्यवाही होगी।
उल्लेखनीय है कि राजस्थान का भीलवाड़ा इलाका इस तरह की शरारतपूर्ण और साम्प्रदायिक घटनाओं के लिए कुख्यात रहा है। वहां पर आये दिन साम्प्रदायिक तनाव की खबरें आती हैं जब मंदिर में पवित्रता को प्रभावित करने का प्रयास किया जाता है। अब नोहर में लगातार ऐसी घटनाएं होने से खुफिया एजेंसियां ऐसी जानकारी जुटा रही हैं कि कौन व्यक्ति हैं जो संगठनों से जुड़ गये हैं और इस तरह की घटनाओं को करने में जुटे हैं।

VIAसतीश बेरी
SOURCEसतीश बेरी्
Previous articleनुपुर शर्मा के समर्थन में आये युवक की नृशंस हत्या
Next articleश्रीगंगानगर : कलक्टर ऑफिस रोड का भी आरयूआईडीपी नहीं करवा पाई ‘सम्मानÓ

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here